1. होम
  2. >
  3. Infocus Detail
  4. >
  5. गर्भावस्था

चौथा महीना

शारीरिक बदलाव

  1. स्किन पिगमेंटेशन (त्वचा की रंजकता) में वृद्धि के साथ मोल (तिल) और फ्रेकल (झाइयाँ) अधिक गहरी हो सकते हैं। निप्पल के आसपास पिगमेंटेशन (रंजकता) होती है।
  2. पेट के मध्य के नीचे एक गहरी रेखा दिखाई दे सकती है।
  3. भूख बढ़ने के परिणामस्वरूप कपड़े टाइट हो जाते हैं।
  4. कमर का विस्तार होने लगता है।
  5. पेट की कोमल गोलाई के रूप में बेबी बम्प दिखना शुरू होता है।
  6. स्तन अभी भी सामान्य आकार के हो सकते हैं लेकिन वे आने वाले सप्ताहों में बढ़ेंगे।

शिशु की विशेषताएँ

  • लंबाई: 6 इंच
  • वज़न: 135 ग्राम
  • यह शिशु के तेज़ी से बढ़ने की अवधि है।
  • शरीर और चेहरे पर महीन बाल दिखाई देते हैं।
  • त्वचा पारदर्शी होती है जो नीचे की ब्लड वेसल्स (रक्त वाहिकाओं) दिखाती है।
  • जोड़ें बन गए है और कठोर हड्डियाँ विकसित हो रहीं हैं।
  • सेक्स ऑर्गन (जननेंद्रिय/प्रजनन अंग) पर्याप्त परिपक्व हैं कि लिंग का खुलासा कर पाए।
  • शिशु अंगूठा चूसता है।
  • शिशु का दिल माँ की तुलना में दोगुना तेज़ धड़कता है।
  • शिशु जोरों के साथ हिलता-डुलता है, भले माँ अभी भी इसे महसूस नहीं कर सकती है।
  • शिशु की खुद की गर्दन होती है।
  • शिशु की उंगलियों का अपना फिंगर प्रिंट पैटर्न होता है।
  • सिर अभी भी शरीर के लिए बड़ा है।

सुझाव

  • दोनों साथियों को धूम्रपान करना छोड़ देना चाहिए, यदि अब तक नहीं छोड़ा गया हो।
  • जैसे-जैसे भूख बढ़ रही है, माँ को इस बात से अधिक सावधान रहने की ज़रूरत है कि वह क्या खा रही है और अस्वास्थ्यकर भोजन से बचें। समझदार होना और वज़न पर नज़र रखना फायदेमंद साबित होता है।
  • डॉक्टर के साथ जाँच करना एक अच्छा विचार है जो इस समय के आसपास आयरन सप्लीमेंट (अनुपूरक) रिकमेन्ड कर सकता है। आयरन सप्लीमेंट भरे पेट पर और अधिमानतः विटामिन सी के एक अच्छे स्रोत के साथ लिए जाने चाहिए, ताकि उनकी जैव-उपलब्धता बढ़ाई जा सकें।
  • आम तौर पर पहली तिमाही के बाद फोलिक एसिड सप्लीमेंट बंद कर दिए जाते हैं।
  • यह प्रसवपूर्व क्लिनिक की दूसरी विज़िट करने का समय है जहाँ एक अल्ट्रासाउंड स्कैन होगा; यदि बच्चे में कोई असामान्यता होने की संभावना हो तो सीरम स्क्रीनिंग टेस्ट और एमनियोसेंटेसिस भी।

दिन का प्रश्न

आप यह कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं कि शिशु सामान्य है?

शिशु के असामान्य होने की संभावना बहुत कम होती है क्योंकि ज़्यादातर असामान्यताएँ प्रारंभिक सप्ताहों में होतीं हैं और मिसकैरिज (गर्भपात) पर समाप्त होतीं हैं। अब तक तो शिशु पूरी तरह से बन चुका है और अगर माता-पिता एक अच्छी जीवनशैली सुनिश्चित करते हैं, जो शिशु के लिए एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करता है, तो जोखिम को और कम किया जा सकता है।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था

दूसरा महीना

दूसरा महीना वह समय होता है जब होनेवाले माता-पिता यह सुनिश्चित रूप से वास्तव में जानते होंगे कि उन्हें एक बच्चा होने वाला है। जैसे ही ख़बर बाहर आ जाती है, सभी और भांति-भांति से सभी प्रकार की सलाहें होंगी। इससे पहले कि आप इतना सब कुछ सुनकर भड़क जाए, कल्पना से तथ्य को अलग करना महत्वपूर्ण है।

पाँचवें से छटे सप्ताह तक

इस समय के आसपास, एम्ब्रीओ (भ्रूण) लगभग आधा इंच का होता है, आसान शब्दों में कहने के लिए, एक सेब की गुठली के आकार का, इसलिए आपको दो जनों के लिए खाना चाहिए, इस सलाह को अनदेखा कर सकतीं हैं!

विशेषताएँ

  • भ्रूण एक फ्लूइड (तरल) से भरी थैली में तैर रहा है।
  • इसके पास एक सरल मस्तिष्क, रीढ़ और सेंट्रल नर्वस सिस्टम (केंद्रीय तंत्रिका प्रणाली) है।
  • सिर पर चार गड्ढे आ गए हैं जो बाद में शिशु की आँखें और कान बनेंगे।
  • मुंह और जबड़े के साथ-साथ, एक डाइजेस्टिव सिस्टम (पाचन तंत्र) बनाना शुरू हुआ है।
  • पेट और छाती विकसित हो रहे हैं और छाती के सामने वाला एक बड़ा उभार (दिल) सप्ताह के अंत तक धड़कना शुरू कर देता है।
  • ब्लड वेसल्स (रक्त वाहिकाएँ) बन रही हैं।
  • अंगों की चार छोटी कलियाँ विकसित हुईं हैं।

सप्ताह 7

बच्चा अब आधा इंच का हो चुका है जो एक छोटे अंगूर के आकार जैसा है।

विशेषताएँ

  • एक चेहरा बन रहा है, जबकि सिर के किनारों पर आँखें बंद अवस्था में दिखाईं देतीं हैं।
  • बाँहें और पैर अंत में क्लेफ़्ट (दरारों) के साथ स्पष्ट रूप से नज़र आते हैं जो बाद में उंगलियाँ और पैर की उंगलियाँ बन जाते हैं।
  • हृदय ने धड़कना और रक्त को सर्कुलेट (प्रसारित) करना शुरू कर दिया है।
  • बोन सेल्स (हड्डी की कोशिकाएँ) विकसित होने लगें हैं।
  • भले पूरी तरह से नहीं बनें, एम्ब्रीओ (भ्रूण) के पास फेफड़े, आंत, किडनी, लीवर और आंतरिक प्रजनन अंग हैं।

सप्ताह 8

शिशु अब एक इंच का हो चुका है जो लगभग एक स्ट्रॉबेरी के आकार का है।

विशेषताएँ

  • एम्ब्रीओ (भ्रूण) को अब एक फीटस (गर्भ) कहा जाता है।
  • सभी प्रमुख आंतरिक अंग विकसित हो गए हैं, भले पूरी तरह से नहीं।
  • एक पहचानने योग्य चेहरा, एक नाक, नथुने और जबड़े और मुंह हैं जिसमें जीभ भी है।
  • कान के भीतरी हिस्से बन रहे हैं।
  • उंगलियाँ और पैर की उंगलियाँ स्पष्ट रूप से भिन्न हो रही हैं, हालांकि जुड़ीं हुईं हैं ।
  • कंधे, कोहनियों, हिप्स (कूल्हों) और घुटनों का पता लगाया जा सकता है।
  • शिशु बहुत हिलता-डुलता है, हालांकि यह हलचल अभी तक माँ द्वारा महसूस नहीं की जा सकती है।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था

छठा महीना

छठा महीना अकसर प्रेगनेंसी का सबसे अच्छा महीना होता है क्योंकि माँ के चेहरे पर खुशी और संतोष की एक भावना झलकती है। एक माँ के रूप में अब आप काफ़ी रिलैक्स्ड (विश्रांत) हैं और आपका शरीर प्रेगनेंसी के अनुकूल ढल चुका है। यदि वज़न बढ़ना अब तक स्थिर नहीं रहा है, तो यह वह महीना है जब होनेवाली माँ बहुत अधिक वज़न प्राप्त कर सकती है।

प्रति सप्ताह 500 ग्राम वज़न बढ़ने की स्थिर स्थिति रहेगी, भले यदि प्रेगनेंसी की शुरुआत में माँ का वज़न कम था, तो उसका और तेज़ी से वज़न बढ़ सकता है।

माता में बदलाव

  • शरीर के वज़न में उछाल ढीले-ढाले कपड़ों को होनेवाली माँ के लिए अधिक आरामदायक बनाता है।
  • गर्मी और अधिक पसीने के प्रति असहिष्णुता हो सकती है।
  • प्यास बढ़ सकती है।
  • शरीर में वॉटर रिटेंशन (पानी का अवधारण) हो सकता है।
  • एरिओला (स्तनमंडल) अधिक प्रमुख हो जाते हैं।
  • बेबी बम्प और भी बड़ा हो जाता है।

शिशु की विशेषताएँ

  • लंबाई: 13 इंच
  • वज़न: 570 ग्राम
  • त्वचा में स्वेट ग्लैंड (पसीने की ग्रंथियाँ) आ जाते हैं।
  • हाथों और पैरों की मांसपेशियाँ विकसित हो गईं हैं।
  • शिशु को खांसी और हिचकी आ सकती है।
  • बच्चे की पलकें अभी भी बंद हैं।
  • चूंकि शिशु सुन सकता है, वे ध्वनियों के लिए पसंद और नापसंद विकसित करते हैं।
  • शिशु अपना मुंह खोल सकता है और बंद कर सकता है और यहाँ तक कि भौंहें भी चढ़ा सकता है।
  • शिशु मुट्ठी बना सकता है और लात और मुक्का भी मार सकता है।
  • शिशु में अनियमित नींद के पैटर्न हैं।
  • शिशु के टेस्ट बड्स (स्वाद कलियाँ) बनने लगें हैं।
  • त्वचा धीरे-धीरे मोटी होती जा रही है।

क्या करें और क्या न करें?

  • दिन के दौरान अपने पैरों को जितना संभव हो उतना ऊपर रखें।
  • कोमल व्यायाम नियमित रूप से जारी रखें।
  • श्वास, ध्यान और विश्राम की तकनीकों का अभ्यास करें।
  • यदि आपके निप्पल चपटे या उलटे हैं, तो स्तनपान वाली चिंताओं के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।
  • कामकाजी माताओं को क्लिनिक में मैटरनिटी सर्टिफिकेट (मातृत्व प्रमाणपत्र) के लिए पूछना चाहिए।
  • एक अच्छी प्रेगनेंसी ब्रा में निवेश करें। अपने आकार को नियमित रूप से मापें क्योंकि आपके स्तन पूरे प्रेगनेंसी के दौरान सूजते रहेंगे। यदि स्तन बहुत भारी हो जाते हैं, तो रात के समय में भी हल्के वज़न की ब्रा पहनें।

6 महीने पूरे होने पर आप एक माँ के रूप में अधिक तैयार हो रही हैं। अपने डॉक्टर से नियोजित विज़िट पर मिलें क्योंकि वह यह आकलन करने के लिए योग्य है कि क्या आपका वज़न उचित है और वांछित रूप के अनुसार जा रहा है। अल्ट्रासाउंड के माध्यम से शिशु की जांच करना वृद्धि दर का आकलन करने में भी फायदेमंद होता है।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था

विशेष देखभाल की आवश्यकता वाले शिशु

सवाल पूछना

डॉक्टर या मिड वाइफ (प्रसाविका) से कोई भी सवाल पूछें जो आपको परेशान कर रहा हो। आप विभिन्न उपकरणों के कार्यों के बारे में जान सकतीं हैं जो आपको उनके साथ सहज बनाएगा। इसके अलावा सवाल पूछने से इसलिए डरें नहीं क्योंकि शिशु कमज़ोर है और आप जवाब से डरतीं हैं। मॉडर्न इंटेंसिव केयर (आधुनिक गहन देखभाल) 28 सप्ताह से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं को भी जीवित रहने में मदद कर सकती है।

शिशुओं को कई वजहों से नवजात देखभाल के लिए भरती कराया जा सकता है, जिसमें निम्न स्थितियाँ शामिल हैं: 

  • प्रीमेच्यौर (अपरिपक्व) या समय से पहले जन्म लेने वाले शिशु – 13 में से 1 शिशु जल्दी पैदा होता है, और 34 सप्ताह से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं को सांस लेने, खिलाने-पिलाने और गर्म रहने के लिए अतिरिक्त मदद की आवश्यकता पड़ सकती है।
  • शिशु जो अत्यधिक छोटे होते हैं और जन्म के समय जिनका वज़न कम होता है।
  • इन्फेक्शन (संक्रमण) से पीड़ित होते हैं।
  • डायबिटीज़ वाली माँ के शिशु।
  • जन्म के तुरंत बाद जॉन्डिस (पीलिया) से पीड़ित शिशु।
  • कठिनाई से पैदा हुए शिशु।
  • जिन शिशुओं की जटिल सर्जरी (शल्यक्रिया) हुई है।

अपने शिशु के बारे में जानना

आपके लिए अपने शिशु के साथ जितना संभव हो सके उतना अधिक से अधिक समय बिताना बहुत महत्वपूर्ण है। आपके शिशु को किसी भी सामान्य स्वस्थ शिशु जितना प्यार और ध्यान चाहिए। कई अस्पतालों में आपके रहने के लिए विशेष कमरे होते हैं, ताकि आप अपने शिशु के क़रीब रह सकें और उसकी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में भाग ले सकें। वह कमज़ोर लग सकता/सकती है और आप उसे छूने से डर सकतीं हैं। यद्यपि कुछ शिशुओं को इन्क्यूबेटरों से बाहर नहीं निकाला जा सकता है, फिर भी आप उससे बात कर सकतीं हैं और उसे सिरों में छेदो के माध्यम से थपथपा सकतीं हैं। आपको उसकी नैपी (लंगोट) बदलने और उसे तैयार करने में मदद करने भी दिया जा सकता है। लगभग सभी शिशु प्यार से संभाले जाने पर प्रतिक्रिया देते हैं।

फीड करना (दूध पिलाना)

यदि शिशु चूसने में सक्षम है, तो आपको उसे सामान्य रूप से दूध पिलाने के लिए कहा जाएगा; नहीं तो उसे उसके पेट में मुंह के माध्यम से पास की गई एक ट्यूब के ज़रिए दूध पिलाया जाएगा।

जॉन्डिस पीलिया

कई नवजात शिशुओं में पीलिया का हल्का रूप विकसित होता है। उनकी त्वचा और आँखों का सफेद हिस्सा थोड़ा पीला हो जाता है। शिशु का लीवर पूरी तरह से विकसित नहीं हुआ होता है, और बिलिरूबिन पिगमेंट (वर्णक) रक्त में तेज़ी से जमा हो जाता है इससे पहले कि लीवर उसका निपटारा कर पाए। पीलिया आमतौर पर एक-दो दिनों में अपने आप चला जाता है। शिशु को अधिक नींद आ सकती है, और आपको इसे दूध पिलाने के लिए जगाना पड़ सकता है। यह उसे प्राकृतिक धूप के संपर्क में लाने में मदद करता है। केवल कुछ गंभीर मामलों में, शिशु को विशेष देखभाल में रखा जाता है।

इन्क्यूबेटर (ऊष्मायित्र)

अत्यधिक छोटे शिशुओं को गर्म रखने के लिए बिस्तर के बजाय इन्क्यूबेटरों में रखा जाता है। हालांकि, अस्पताल कर्मचारी आपको अपने शिशु के साथ संपर्क करने की अनुमति देते हैं।

कुछ इन्क्यूबेटर में खुले शीर्ष होते हैं, लेकिन अगर आपके शिशु के इन्क्यूबेटर में ऐसा नहीं हैं, तो आप अपने हाथों को इन्क्यूबेटर के साइड में मौजूद छेदों के माध्यम से उसे थपथपाने और छूने के लिए घुसा सकतीं हैं।

यदि आपके शिशु को विशेष देखभाल की आवश्यकता है, तो चिंतित होना सामान्य है; इसके बारे में डॉक्टर या अस्पताल के कर्मचारियों से बात करने में संकोच न करें। डॉक्टर से उचित सलाह लें ताकि आपका शिशु तेज़ी से ठीक हो सके और उचित विकास के मील के पत्थर हासिल कर सके। आपका शिशु कुछ दिनों में सामान्य हो जाएगा और किसी भी अन्य शिशु के जैसे सामान्य विकास पैटर्न प्राप्त कर लेगा।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था

अपने शिशु को खिलाना-पिलाना

जैसे ही आप ख़ुशी के अपने शिशु का स्वागत करतीं हैं, आपको शिशु को फीड करने (अर्थात् दूध पिलाने) के बारे में निर्णय करना होगा, स्तनपान या बोतल द्वारा। अपने शिशु को प्यार से दूध पिलाने का मन करना चाहिए, न कि कर्तव्य की भावना से।

कृपया यह तय करने के लिए पर्याप्त विचार करें कि आप किस विधि से शिशु को दूध पिलाना चाहेंगी। यदि आप बाद में बोतल से स्तन पर स्विच करना चाहतीं हैं, तो यह संभव नहीं हो पायेगा, क्योंकि शिशु के चूसने की उत्तेजना के बिना, स्तन दूध का उत्पादन करना बंद कर सकते हैं। हमेशा ध्यान रखें, जो भी रीति आप चुनतीं हैं, आपका प्यार और ध्यान आपके शिशु के लिए उतना ही महत्वपूर्ण है जितना दूध आप पिलातीं हैं।

ब्रेस्ट फीडिंग (स्तनपान)

  • कोलोस्ट्रम, जो आपके स्तन पहले कुछ दिनों में बनाते हैं, उसका का कोई अन्य विकल्प नहीं है। यह शिशु को शुरुआती महीनों में इन्फेक्शन (संक्रमण) से लड़ने के लिए आवश्यक एंटीबॉडी से लैस करता है।
  • स्तन का दूध सही तरह के पोषक तत्वों के साथ एक शिशु की ज़रूरतों को पूरा करता है।
  • यह आसानी से पच जाता है।
  • यह प्राकृतिक रूप से स्वास्थ्यकर होता है।
  • यह शिशु के लिए सही तापमान पर उपलब्ध होता है।
  • यह माँ और बच्चे के बीच एक मजबूत संबंध विकसित करने में मदद करता है।
  • यह माँ को प्रेगनेंसी के पहले के आकार में जल्द ही वापस पतले होने में मदद करता है।

बोतल से पिलाना

यद्यपि बोतल से दूध पिलाए गए एक शिशु में माइक्रो-ऑर्गनिज़म (सूक्ष्म जंतुओं) को जकड़ने का अधिक जोखिम होता है जो दस्त पैदा कर सकता है, इसके कुछ फायदे भी हैं: 

  • यह शिशु को फीड करने में आपके साथी को एक सक्रिय भूमिका निभाने में मदद करता है।
  • आप यह मॉनिटर कर सकतीं हैं कि आपके शिशु ने कितना दूध पिया है।
  • एक माँ की थकान या बीमारी, जो स्तन के दूध की आपूर्ति को कम कर सकती है, बोतल से दूध पिलाए गए शिशुओं को प्रभावित नहीं करती है।

स्टरलाइज़ करना (विसंक्रमण करना) और अच्छी हाइजीन

बोतल से पिलाए गए शिशुओं को दूध के माध्यम से अपने शरीर में प्रवेश करने वाले बैक्टीरिया का अधिक जोखिम होता है, जिससे गैस्ट्रो एंटरायटिस (आंत्रशोथ) पैदा हो सकता है, जो एक छोटे शिशु में जानलेवा हो सकता है। आपको अपने शिशु के खाने-पीने के संपर्क में आने वाली हर चीज़ को धोना और स्टरलाइज़ (विसंक्रमित) करना चाहिए।

धोना

  • सभी बोतल, चूचुक (टीट), टोपी, जग, कीप, चम्मच और चाकू को अच्छी तरह से धोने के लिए साबुन के गर्म पानी का उपयोग करें।
  • दूध के सभी निशान हटाने के लिए गर्दन, पेंच, धागे और बोतल के अंदरूनी हिस्से पर अच्छी तरह से स्क्रब करें।
  • चूचुकों के अंदर नमक का इस्तेमाल करें और किसी भी दूध के निशान को हटाने के लिए चूचुकों को निचोड़कर और मसाज करके इसे आसपास घुमाएं।
  • बहते पानी के नीचे सभी उपकरणों को धोएं।

स्टरलाइज़ करना (विसंक्रमण करना)

  • ठंडे पानी से एक बड़ा बर्तन भरें और स्टरलाइज़ करनेवाला लिक्विड (विसंक्रमित करनेवाला तरल) डालें।
  • उपकरणों को अंदर रखें और बोतलों को भरें ताकि वे डूबीं रहें।
  • जब तक आप हवा के किसी भी बुलबुले को बिलकुल न देख सकें तब तक चीजों को इधर-उधर घुमाएँ। फ्लोट को अंदर डालें और ऊपर ढक्कन रखें।
  • कम से कम न्यूनतम समय के लिए छोड़ दें।
  • आवश्यकतानुसार वस्तुओं को बाहर निकालें और उबले हुए पानी में धोएं।
  • किचन पेपर पर ड्रेन करें (सुखाएं)।

उबालकर स्टरलाइज़ करना (विसंक्रमण करना)

सभी उपकरणों को धो लें और फिर 25 मिनट तक उबालें। सब कुछ पूरी तरह से डूबा हुआ रखें।

  • इलेक्ट्रिक स्टरलाइज़र (विद्युतीय विसंक्रमणक)

यह सिर्फ बोतलें और चूचुकों को लेता है। आपको पहले सब कुछ अच्छी तरह से धोना चाहिए।

यदि आप पर्याप्त देखभाल कर रहीं हैं, तो आपको बोतल से दूध पिलाने के बारे में भी बहुत अधिक चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। स्तन या बोतल एक स्वतंत्र निर्णय है जिसे माता-पिता को लेना चाहिए और अपने परिवार में एक शिशु का स्वागत करने के पूरे अनुभव का आनंद लें।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था

वापस सामान्य होना

डिलीवरी (प्रसूति) के बाद, आपका जाना-माना बम्प चला गया होगा लेकिन आपका पेट अभी तक पूरी तरह से सपाट नहीं हुआ होगा। जन्म के बाद पहले-पहले दिनों में आपको कुछ असुविधा महसूस हो सकती है। अपने डॉक्टर से बात करें अगर आपको कुछ परेशान कर रहा है।

बाद के दर्द

एक बार जब आप अपने शिशु को स्तनपान कराना शुरू कर देतीं हैं, तो आपको स्टमक क्रैम्प (पेट में ऐंठन) महसूस हो सकते हैं। यह एक अच्छा संकेत है कि आपका गर्भ अपने पूर्व प्रेगनेंसी के आकार में वापस आ रहा है। दर्द कई दिनों तक रह सकता है।

क्या करें

यदि कॉन्ट्रैक्शन (संकुचन) तीव्र हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से बात करने की आवश्यकता है जो एक हल्का पेन किलर (दर्द निवारक दवा) प्रिस्क्राइब कर सकता है।

ब्लैडर (मूत्राशय)

पहले-पहले दिनों में, शरीर प्रेगनेंसी के दौरान प्राप्त अतिरिक्त फ्लूइड (तरल पदार्थ) को खो देता है, इसलिए आपको अधिक बार पेशाब करने की आवश्यकता पड़ सकती है।

क्या करें

  • आपको डिलीवरी (प्रसूति) के बाद दर्द हो सकता है और पेशाब करने में कठिनाई हो सकती है, लेकिन जन्म के बाद जितनी जल्दी संभव हो सके इसे करने की कोशिश करें।
  • उठें और फ्लो (प्रवाह) को प्रोत्साहित करने की कोशिश करें।
  • गुनगुने पानी से स्नान करें। यदि आप पानी में यूरिन (पेशाब) पास करते हैं तो चिंता न करें क्योंकि यह स्टेराइल (विसंक्रमित) होता है। बाद में खुद को अच्छे से धो लें।
  • कभी-कभी पानी के नल को चालू करना यूरिन फ्लो (मूत्र के प्रवाह) को इंड्यूस (अभिप्रेरित) करता है।
  • यदि आपको टाँके लगे हैं, तो यूरिन पास करते समय आप उन पर गर्म पानी डालें जो आपको ताज़गी और जर्म-फ्री (रोगाणु मुक्त) वातावरण प्रदान करेगा।

खून बहना।

आपको दो से छह सप्ताहों तक वजाइनल ब्लीडिंग (योनि से रक्तस्राव) हो सकता है। यह स्तनपान कराने वाली माताओं में पहले रुक जाता है। डिस्चार्ज (स्राव) पहले भारी और चमकदार लाल होता है और धीरे-धीरे धीमा हो जाता है और रंग में भूरा हो जाता है।

क्या करें

  • प्रवाह को थामने के लिए सैनिटरी नैपकिन पहनें।
  • इस स्टेज पर टैम्पोन का उपयोग करने से बचें क्योंकि वे इन्फेक्शन (संक्रमण) का कारण बन सकते हैं।

बॉवल (आंत्र)

आपको जन्म के बाद कुछ दिनों के लिए मल त्याग करने की आवश्यकता नहीं महसूस हो सकती है।

क्या करें

  • जैसे ही आप कर सकतीं हैं, चलना शुरू करें क्योंकि यह बॉवल मूवमेंट्स (मल त्याग) को शुरू करने में मदद करता है।
  • खूब पानी पीए।
  • उच्च फाइबर वाला खाना खाएं।
  • जब आप मल त्याग करना चाहतीं हैं तो तुरंत करें लेकिन बहुत अधिक ज़ोर न लगाएं।
  • यद्यपि आप बॉवल (आंतों) को साफ करते समय कोई टाँके नहीं खोलेंगी, फिर भी आप इस क्षेत्र पर एक साफ-सुथरा सैनिटरी नैपकिन रखने का विकल्प चुन सकतीं हैं।

टाँके

ये एक या दो दिन के लिए बहुत ही पीड़ादायक हो सकते हैं। एक सप्ताह के भीतर, बाहरी वाले गिर जाते हैं और घुलने वाले घुल जाते हैं।

क्या करें

  • उपचार को तेज़ करने के लिए पेल्विक फ्लोर (श्रोणीय तल) व्यायामों का अभ्यास करें।
  • टाँकों को साफ रखने के लिए एक गर्म स्नान में रिलैक्स करें। कूल सेटिंग पर हेयर ड्रायर से उन्हें अच्छी तरह सुखाएं।
  • प्रभावित क्षेत्र पर बर्फ़ पैक लगाने से दर्द को राहत मिलती है।
  • टाँकों पर से दबाव कम करने के लिए लेट जाए या एक रबर रिंग पर बैठ जाए।

पोस्ट पार्टम (प्रसवोत्तर) उदासी

कई महिलाओं को डिलीवरी (प्रसूति) के बाद उदास महसूस होता है, ज़्यादातर जब दूध निकलता है तब। ये निम्न कारणों से हो सकता है।

  • शरीर में हार्मोनल परिवर्तन।
  • जन्म के बाद होने वाले एंटी-क्लाइमेक्स (चरम-विरोध) की भावना।

क्या करें

  • एक शिशु होने की ख़ुशी जन्म के आफ्टर-इफेक्ट्स (उत्तर-प्रभावों) की भरपाई कर देगी, वरन उससे अधिक ही करेगी।
  • पोस्ट-नेटल (प्रसवोत्तर) चिंताएँ अस्थायी हैं और उनके जल्द ही ग़ायब होने की उम्मीद हैं।
  • अगर आपको लगता है कि यह लंबे समय तक रह रहीं हैं, चार सप्ताहों से अधिक समय तक, तो अपने डॉक्टर को दिखाएं।
  • यदि डिप्रेशन (अवसाद) तीव्र है, तो अपने डॉक्टर को दिखाएं।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था

रोते हुए शिशु को सांत्वना देना

शिशुओं को पहले साल भर में रोने की पारियाँ आतीं हैं क्योंकि यह उनके खाने-पीने और आराम के लिए संवाद का एकमात्र साधन है।

जब आपका शिशु रोता है, तो आपकी पहली इंस्टिंक्ट (वृत्ति) उन्हें उठाने की होगी। भले इस विषय पर परस्पर विरोधी विचार हैं, अपनी वृत्ति को आपका मार्गदर्शन करने दें और बच्चे को बिगाड़ने से न डरें।

आपका शिशु दुनिया में नया आया है और उसे यह जानने की ज़रूरत है कि आप विश्वसनीय है और हमेशा उपलब्ध हैं। हालांकि, अगर आपको लगता है कि आपका शिशु बहुत रो रहा है और यह आपको धैर्य खोने पर बाध्य कर रहा है या बहुत थका रहा है, तो अन्य माताओं, सेल्फ हेल्प (स्वयं सहायता) और सहायता समूहों या स्वैच्छिक संगठनों के साथ संपर्क में आए जो आपको इससे निपटने के तरीक़े खोजने में मदद कर सकते हैं। आइए जानें कि शिशु क्यों रो सकता है और आपके लिए क्या समाधान उपलब्ध हैं।

आपका शिशु क्यों रो रहा होगा

यदि रोने की आवाज़ दयनीय या सामान्य से अलग सुनाई देती है, तो शिशु अस्वस्थ हो सकता है, या एक बंद नाक इस समस्या का कारण हो सकता है। अन्य संभावित कारण निम्न हो सकते हैं:

  • नैपी रैश (लंगोट से चकत्ते आन) या नितम्ब (बटक्स) में दर्द।
  • कोलिक (उदरशूल)
  • बहुत गर्मी या बहुत ठंडी लगना।
  • स्नान या कपड़े पहनने आदि की प्रक्रिया के दौरान।
  • आपका खुद का बुरा मिजाज आपके शिशु को रोने की पारियों के साथ प्रतिक्रिया देने पर मजबूर कर सकता है।
  • बहुत अधिक झंझट करना शिशु को परेशान कर सकता है।

रोते हुए शिशु को प्रशांत करने के तरीक़े

  • अगर आपको डर है कि आपका शिशु शायद बीमार है, तो डॉक्टर को कॉल करने में संकोच न करें क्योंकि वह कुछ ऐसे उपायों को प्रिस्क्राइब कर सकता है, जैसे नेज़ल ड्रॉप्स (नाक के लिए ड्रॉप्स) जिससे शिशु को बेहतर साँस लेने में और अतः शांत होने में मदद मिल सकें।
  • यदि शिशु के नितम्ब (बटक्स) में दर्द हो, तो नैपी (लंगोट) उतार दें और नितम्ब को अच्छी तरह से साफ़ करें। बचे हुए दिन के लिए आप नैपी उतारी हुई ही छोड़ सकतीं हैं।
  • यदि आपका शिशु कोलिक (उदरशूल) से पीड़ित है, तो पहले ही दवाइयों का सहारा न लें और शिशु को झुलाकर उसकी पीड़ा कम करें या नाके के आसपास टहलने के लिए बाहर ले जाए।
  • शिशु के कमरे को अधिक गर्म करने या अधिक ठंडा करने से बचें। शिशु के लिए आदर्श कमरे का तापमान वह है जो हल्के कपड़े पहने हुए वयस्कों के लिए आरामदायक होता है।
  • शिशु भूखा या प्यासा हो सकता है, इसलिए खाने-पीने को ऑफर करें।
  • शिशु को कडल के ज़रिए आपका ध्यान चाहिए हो सकता है या उसे गैस हुई हो सकती है जो आपकी बाँहों में या रॉकिंग कुर्सी में ताल से उसे झुलाकर निकल सकती है।
  • शिशु को एक शाल में कसकर लपेटें और एक बंडल बनाने के लिए सिरों को टक करें। 'स्वॉडल' (लपेटना) नामक यह प्रक्रिया एक शिशु को सकुशल और सुरक्षित महसूस कराती है।
  • शिशु को शांत करने का एक और तरीक़ा है कि धीरे से पेट या पीठ को थपथपाकर उन्हें शांत किया जाए या पेट में से गैस निकालकर राहत दी जाए।
  • एक पैसिफ़ायर (प्रशांत करनेवाला उपकरण) या चूसने के लिए कोई चीज़, जो ठीक से स्टरलाइज़ (विसंक्रमित) किया गया हो, एक और सामान्य इलाज है।
  • शिशुओं को चमकीले रंग की चीज़ें बहुत पसंद होती हैं, इसलिए उन्हें चित्र पुस्तक, दर्पण या नए खिलौने से भी डिस्ट्रैक्ट (विचलित) कर सकते हैं।

रोना एक सामान्य प्रक्रिया है, जिसे सभी शिशु दर्शाते हैं। हालांकि, अपने हेल्थकेयर प्रोवाइडर (स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता) से पूछें कि क्या आपका शिशु आपके सभी प्रयासों के बावजूद लगातार रोने की पारियाँ दिखा रहा है। डॉक्टर एक परीक्षण कर सकते हैं जो कुछ ऐसी मेडिकल कंडीशन को चित्रित कर सकता है जिसे आप समझ नहीं पा सकतीं हो।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था

सीज़ेरियन सेक्शन

यदि यह एक प्लान किया हुआ आपरेशन है, तो आप डॉक्टर से एक एपिड्यूरल ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) मांग सकतीं हैं, ताकि आप डिलीवरी (प्रसूति) की अवधि के दौरान जागृत रहें और जन्म के तुरंत बाद शिशु को हाथ में पकड़ सकें। हालाँकि, एक सामान्य ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) में आप बहुत ही घबड़ाई हुई और भटकी हुई महसूस करती हुई जागतीं हैं।

यदि यह एक इमरजेंसी (आपातकालीन) आपरेशन है, तो डॉक्टर को ही सामान्य या एपिड्यूरल ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) के बारे में निर्णय लेने दें।

सीज़ेरियन सेक्शन के कुछ कारण:

आपको वजाइनल बर्थ (योनिक जन्म) के बजाय एक प्लान्ड (नियोजित) या इमरजेंसी (आपातकालीन) सीज़ेरियन क्यों हो सकता है, इसके कारण निम्नलिखित रूप से दिए गए हैं:

  • एक सीज़ेरियन सेक्शन का इतिहास हो।
  • शिशु बॉटम-डाउन (नितंब/बटक्स नीचे की तरफ़ की) अवस्था में हो, या उलटी मुद्रा में हो।
  • शिशु तिरछी (ट्रांसवर्स/अनुप्रस्थ) मुद्रा में हो, या अपनी मुद्रा को बदलता रहता है (अस्थिर रहना)।
  • आपके पास नीचे की ओर स्थित प्लेसेंटा (बीजांडासन) हो सकता है (प्लेसेंटा प्रीविया)।
  • हृदय रोग या डायबिटीज़ जैसी मेडिकल कंडीशन (चिकित्सकीय अवस्था)।
  • आपने अतीत में, या तो लेबर (प्रसव) के पहले या दौरान, एक बच्चा खोया है।
  • आप जुड़वाँ या उससे अधिक की उम्मीद कर रहीं हैं।
  • आपका शिशु उतना नहीं बढ़ रहा है जितना कि वह आपके गर्भ (यूटरस/गर्भाशय) में बढ़ना चाहिए।
  • आपको गंभीर प्री-इक्लैम्प्सीआ या इक्लैम्प्सीआ है, जिससे जन्म में देरी करना ख़तरनाक साबित हो सकता है।

क्या किया जाता है:

  • आपके प्यूबिक हेयर (जघन केश) शेव कर दिए जाते हैं।
  • आपके हाथ में एक ड्रिप लगाई जाती है।
  • आपके ब्लैडर (मूत्राशय) में एक ट्यूब डाली जाती है।
  • आपको ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) दिया जाएगा।
  • एपिड्यूरल ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) के मामले में आपके और सर्जन के बीच एक स्क्रीन लगाई जाती है।
  • आम तौर पर प्यूबिक हेयरलाइन (जघन केश-रेखा) के ठीक ऊपर एक आड़ा कट किया जाता है और ठीक होने पर यह लगभग अदृश्य होता है।
  • सर्जन ऐम्निऑटिक फ्लूइड (द्रव) को बहा देता है।
  • कभी-कभी फोरसेप्स (संदंश) का उपयोग करके शिशु को बाहर निकाला जाता है।
  • प्लेसेंटा (बीजांडासन) की डिलीवरी होते ही आप शिशु को पकड़ पातीं हैं।
  • सर्जरी की शुरुआत से जन्म तक लगभग 5 मिनट लगते हैं।
  • आपके टाँके करने के लिए और 20 मिनट लग जाते हैं।
  • आप या आपका साथी शिशु को पकड़ सकते हैं जब तक सर्जन आपको टाँके लगाता है।

आपरेशन के बाद:

  • आपको जन्म के तुरंत बाद चलने के लिए कहा जाएगा।
  • चीरा शुरुआती कुछ दिनों में दर्दनाक हो सकता है इसलिए पेन रिलीफ (दर्द से राहत की दवा) के लिए कहें।
  • इस बात से डरें नहीं कि आपके हिलने-डुलने से चीरा खुल सकता है।
  • लंबी खड़ी हो और अपने हाथों को घाव के ऊपर रख दें।
  • आपरेशन के दो दिन बाद, सौम्य व्यायाम शुरू कर दें। अपने डॉक्टर से आपका मार्गदर्शन करने के लिए कहें।
  • ड्रेसिंग हटाने के बाद आप स्नान कर सकतीं हैं।
  • यदि टाँकें सॉल्युबल (घुलनशील) हैं, तो उन्हें निकालने की आवश्यकता नहीं हैं, अन्यथा उन्हें जन्म के लगभग पाँच दिन बाद निकाल दिया जाएगा।
  • लगभग एक सप्ताह के बाद आप बहुत बेहतर महसूस करने लगेंगी।
  • कम से कम छह सप्ताहों तक ख़ुद को तनाव से दूर न रखें।
  • स्कार (निशान) आमतौर पर तीन से छह महीने में मिट जाता है।

सीज़ेरियन सेक्शन के बाद स्तनपान कैसे करें

अपने बाजू में कुछ तकिए रखें और उनके ऊपर शिशु को सपोर्ट करें। इस तरह शिशु आपके घाव पर नहीं लेट रहा होगा और आप उसे आराम से स्तनपान करा सकतीं हैं।

माता के लिए जोखिम और जटिलताएँ

अमेरिकन प्रेगनेंसी एसोसिएशन (अमेरिकी प्रेगनेंसी संघ) के अनुसार सीज़ेरियन से जुड़े कुछ जोखिम फैक्टर निम्न हैं:

  • इन्फेक्शन (संक्रमण): यह किसी भी तरह के इन्फेक्शन (संक्रमण) की वजह से चीरे के कारण हो सकता है।
  •  हेमरिज या अत्यधिक ब्लड लॉस: वजाइनल डिलीवरी (योनिक प्रसूति) के मुकाबले सीज़ेरियन डिलीवरी में अधिक खून की हानि होती है। इससे एनीमिया हो सकता है या ब्लड ट्रांसफ्यूजन (रक्त आधान) की आवश्यकता पड़ सकती है (प्रति 100 में 1 से 6 महिलाओं को ब्लड ट्रांसफ्यूजन की आवश्यकता पड़ती है)।
  • ऑर्गन्स में चोट लगना: बॉवल (आंत्र) या ब्लैडर (मूत्राशय) जैसे अंगों पर संभावित चोट लगना।
  • ऐड्हीशन (आसंजन): पेल्विक (श्रोणीय) क्षेत्र के अंदर स्कार टिश्यू (निशान ऊतक) निर्मित हो सकता है जो रुकावट और दर्द का कारण बन सकता है। ऐड्हीशन भविष्य की प्रेगनेंसी की जटिलताओं को भी जन्म दे सकते हैं जैसे कि प्लेसेंटा प्रीविया या प्लेसेंटल अबरप्शन।
  • अस्पताल में रहने की बढ़ी हुई अवधि: किसी सीज़ेरियन के बाद, अस्पताल में रहने की सामान्य अवधि जन्म के बाद 3-5 दिनों की होती है, अगर कोई जटिलताएँ न हों।
  • ठीक होने का बढ़ा हुआ समय: सीज़ेरियन के बाद ठीक होने के लिए आवश्यक समय की मात्रा सप्ताहों से लेकर महीनों तक हो सकती है। ठीक होने की बढ़ी हुई अवधि आपके शिशु के साथ बॉन्डिंग करने के (अर्थात् एक संबंध बनाने के) समय पर प्रभाव डाल सकती है (सर्जरी के 6 महीने या उससे अधिक के बाद 14 में से 1 जन चीरे से होनेवाले दर्द को बयान करतीं हैं)।4).
  • दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया: सीज़ेरियन के दौरान दिए गए ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) के प्रति एक नकारात्मक प्रतिक्रिया हो सकती है या प्रक्रिया के बाद दी जाने वाली दर्द की दवा के प्रति नकारात्मक प्रतिक्रिया हो सकती है।
  • अतिरिक्त सर्जरी के जोखिम: में संभावित हिस्टेरेक्टॉमी, ब्लैडर (मूत्राशय) की मरम्मत या एक और सीज़ेरियन शामिल है।
  • मैटरनल मॉर्टेलिटी: किसी सीज़ेरियन के लिए मैटरनल मॉर्टेलिटी रेट (मातृ मृत्यु दर) एक वजाइनल बर्थ (योनिक जन्म) की तुलना में अधिक होती है।
  • भावनात्मक प्रतिक्रियाएँ: कुछ महिलाएँ जिनका सीज़ेरियन हुआ है, वे जन्म के अपने अनुभव के बारे में नकारात्मक महसूस करना बयान करतीं हैं और उन्हें अपने शिशु के साथ शुरुआती बॉन्डिंग करने में (अर्थात् एक संबंध बनाने में) परेशानी हो सकती है।5.

शिशु के लिए जोखिम और जटिलताएँ

  • प्रीमेच्यौर (अपरिपक्व) जन्म: यदि जेस्टेशनल एज (गर्भावधि उम्र) सही कैलकुलेट नहीं की हो, तो सीज़ेरियन द्वारा डिलीवर किया गया शिशु बहुत जल्दी डिलीवर किया जा सकता है और उसका जन्म वज़न कम हो सकता है।.
  • श्वास संबंधी समस्याएँ: जब सीज़ेरियन द्वारा डिलीवरी कराई जाती है, तो शिशु को सांस लेने और श्वसन संबंधी समस्याएँ होने की संभावना होती है। कुछ अध्ययन दर्शाते हैं कि वजाइनल डिलीवरी (योनिक प्रसूति) की तुलना में, किसी सीज़ेरियन के बाद सांस लेने और तुरंत देखभाल हेतु सहायता की अधिक आवश्यकता पड़ती है।.
  • फीटल इंजरी (भ्रूण संबंधी चोट): शायद ही कभी, चीरा लगाने के दौरान बच्चे को ज़रा सा चीरा पड़ सकता है या उसे काट दिया जा सकता है (औसतन, प्रति 100 में 1 या 2 बच्चे सर्जरी के दौरान काट दिए जाते हैं)..

सीज़ेरियन सेक्शन इन दिनों एक सामान्य प्रक्रिया है; अपने डॉक्टर से पूछें कि यदि आपको उसके बारे में कोई भी आशंका है। उपरोक्त कुछ जोखिम सभी मामलों में नहीं होते हैं और आसानी से उचित मेडिकल इंटरवेंशन (चिकित्सकीय हस्तक्षेप) से निपटे जा सकते हैं।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था