Currently set to Index
Currently set to Follow

पीठ दर्द (बैकपेन)

इसके कारण और इलाज

पीठ दर्द, त्वचा लिगमेंट्स, मांसपेशियों, हड्डियों या पेट की नसों की समस्याओं के कारण हो सकता है |
कुछ लोगों को पीठ दर्द की समस्या ज्यादा होती हैं |
वह लोग जो अपना पूरा दिन कंप्यूटर स्क्रीन पर बिताते हैं,
जो लोग पूरा दिन घर के अंदर रहते हैं, बुजुर्ग लोग और यहां तक कि जिम जाने वाले लोगों
को भी बार-बार पीठ दर्द की समस्या होती है |

 

पीठ दर्द

पीठदर्द के क्या कारण हैं?

पीठ दर्द के कई कारण हो सकते हैं |

  • एक खराब एंगल के पॉस्चर में बैठने के कारण पीठ दर्द हो सकता है जिसके परिणामस्वरूप मांसपेशियों और लिगमेंट पर स्ट्रेन पड़ता है |
  • कैल्शियम और विटामिन डी की कमी वाला आहार खाने से हो सकता है |
  • भारी वजन उठाने या गिरने के कारण होने वाली इंजरी के परिणामस्वरुप पीठ दर्द हो सकता है |
  • कई बार पीठ दर्द स्लिप डिस्क जैसे मेडिकल कारणों की वजह से भी हो सकता है - जिसमें पेट की नसें सिकुड़ जाती हैं और पीठ और पैरों में दर्द और नंबनेस होती है |
  • किडनी इन्फेक्शन और यूरिनरी इनफेक्शन के कारण भी पीठ दर्द हो सकता है |
  • महिलाओं में, स्त्री रोग संक्रमण (गायनोक्लोजिकल इन्फेक्शन) भी एक कारण हो सकता है |
  • पीठ की मांसपेशियों और हड्डियों में होने वाला इनफेक्शन भी कारण हो सकते हैं |
  • कई बार पीठ की हड्डियों में ट्यूमर होने की वजह से भी पीठ दर्द होता है |
  • दाद जैसे स्किन इरप्शन के कारण भी पीठ दर्द हो सकता है |

पीठ दर्द को कैसे कम किया जा सकता है?

  • घर पर आज़माने के लिए कुछ सरल उपाय हैं जिनसे पीठ दर्द में राहत मिल सकती है |
  • आइस पैक के साथ कोल्ड कंप्रेसर पीठ दर्द वाले हिस्से का नंब करके राहत पहुंचाते हैं |
  • अगर आपको पेरासिटामोल, जैसी दर्द निवारक दवा से एलर्जी नहीं है, तो इंजरी के कारण पीठ दर्द होने पर इससे आराम मिल सकता है |
  • कुछ दिनों तक पीठ को आराम देने से दर्द को कम करने में मदद मिल सकती हैं |
  • दर्द निवारक बाम, जिसमें कपूर, पेपरमिंट एसेंशियल ऑयल होते हैं उसकी हल्की मालिश करना फायदेमंद हो सकता है |

डॉक्टर से कब जांच करानी चाहिए?

डॉक्टर से जांच कराना अच्छा रहेगा अगर:

  • दर्द बहुत तेज़ और असहनीय है I
  • दर्द एक पैर से दूसरे पैर में नीचे की तरफ़ बढ़ रहा हो I
  • पैरों में नंबनेस हो I
  • चलते समय कमज़ोरी महसूस होने परI
  • ब्लेडर या बाउल कंट्रोल भी एक गंभीर संकेत है |
  • दर्द के साथ बुख़ार होना किसी इन्फेक्शन का संकेत हो सकता है I

पीठदर्द होने के कारण का कैसे पता चलता है?

  • आपका डॉक्टर आप से दर्द के बारे में पूरी जानकारी लेगा, यह कैसे शुरू हुआ और कुछ जीवन शैली से संबंधित प्रश्न भी पूछेगा |
  • इसके बाद आमतौर पर जांच के द्वारा डॉक्टर आपकी नसों और पीठ के मूवमेंट की जांच कर सकता है |
  • इसके आधार पर, कुछ जांच प्रिसक्रायिब की जा सकती है | जिसमें यूरिन टेस्ट, किडनी फंक्शन टेस्ट, विटामिन डी लेवल्स, और रीढ़ (स्पाईन) के लिए एक्स-रे या सीटी स्कैन शामिल हो सकते हैं |
  • जांच का परिणाम आने तक डॉक्टर शायद मांसपेशियों को आराम देने के कॉमबीनेशन वाली दर्द निवारक दवा, भी दे सकता है | पहले ली गई दवा से होने वाली एलर्जी के बारे में बताएं और यह पुष्टि करें कि रिलैक्सेंट्स लेकर ड्राइव करना सुरक्षित है या नहीं क्योंकि कुछ सिडेटिंग भी हो सकती हैं |

पीठ दर्द का क्या इलाज है?

मोस्ट एक्यूट पीठ दर्द घरेलू दवाइयों से कुछ हफ्तों में ठीक हो जाता है | आपको बस बिना प्रिसक्रिप्शन के दर्द निवारक दवा और गरम या ठंडा सेक करने की ज़रूरत होगी | बेड रेस्ट की कोई सलाह नहीं दी जाती है |

अपनी सहनशीलता के अनुसार अपनी गतिविधियां करना जारी रखें | हल्का आराम करने की कोशिश करें, जैसे चलना और दैनिक जीवन के काम करें | दर्द को बढ़ाने वाले काम ना करें | अगर कुछ हफ्तों तक इस्तेमाल करने के बाद भी घरेलू इलाज काम नहीं कर रहे हैं, तो आपका डॉक्टर स्ट्रौंग मेडिकेशन या दूसरी थेरपीज़ की सलाह दे सकता है |

दवाइयां

आपके पीठ दर्द के प्रकार के आधार पर, आप का डॉक्टर निम्नलिखित दवाइयां लेने की सलाह दे सकता है:

ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दर्द निवारक। नॉनस्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेटरी (एनएसएआईडी) दवाएं, जैसे ब्रूफ़ेन (एडविल, मोरटिन आईबी, अन्य) या नेप्रोक्सन सोडियम (एलेव), अक्यूट पीठ दर्द से राहत दिला सकती हैं। इन दवाओं को अपने डॉक्टर के निर्देशानुसार लें, क्योंकि ज़रूरत से ज़्यादा लेने से गंभीर दुष्प्रभाव (साइड इफ़ेक्ट) हो सकते हैं |

अगर ओटीसी दर्द निवारक से आप का दर्द कम नहीं होता है, तो आपका डॉक्टर एनएसएआईडी का सुझाव दे सकता है।

मसल्स रिलैक्सेंट्स -अगर हल्के से लेकर मॉडरेट पीठ दर्द ओटीसी दर्द निवारक से ठीक नहीं होता है तो, आप का डॉक्टर एक मसल्स रिलैक्सेंट्स भी प्रिस्क्राईब कर सकता है | मसल्स रिलैक्सेंट्स लेने से आपको चक्कर या नींद आ सकती हैं |

टॉपिकल दर्द निवारक - यह दर्द की जगह पर लगाने वाले स्किन क्रीम्स, लेप या मलहम है |

नारकोटिक्स - कोडीन या हाइड्रोकोडोन, जैसी कुछ दवाइयां, डॉक्टर की निगरानी में कुछ समय के लिए दी जा सकती हैं |

एंटीडिप्रेसेंट - विशेष प्रकार की एंटीडिप्रेसेंट की हल्की खुराक - विशेषकर ट्राईसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स, जैसे कि ऐमीट्रिपटलीन - लेने से डिप्रेशन को प्रभावित किये बिना, कुछ प्रकार के क्रॉनिक पीठ दर्द में राहत पाई गई है |

इंजेक्शंस - अगर दूसरे इलाकों से आपको दर्द में राहत नहीं मिलती है और अगर आप का दर्द पैरों में नीचे की तरफ बढ़ रहा है, तो आप का डॉक्टर कोर्टीज़ोन इंजेक्शन लगा सकता है - एक एंटी इन्फ्लेमेटरी दवा - या रीढ की हड्डी (स्पाइनल कॉर्ड) के आसपास के हिस्से को नंब करने वाली दवा (ऐपीड्यूरल स्पेस) | कोर्टीज़ोन इंजेक्शन नर्व रूट्स के आसपास सूजन कम करने में मदद करता है, लेकिन इससे कुछ महीनों के लिए दर्द में आराम मिल जाता है |

शिक्षा

आमतौर पर ऐसा कोई स्वीकृत प्रोग्राम नहीं है जो पीठ दर्द से पीड़ित लोगों को इसे अच्छे से सहन करना सिखाता हो | इसलिए शिक्षा में एक क्लास, डॉक्टर के साथ बातचीत, एक वीडियो या लिखित सामग्री शामिल हो सकते हैं | शिक्षा सक्रिय रहने, तनाव और चिंता को कम करने और भविष्य में चोट से बचने के तरीके सिखाने पर जोर देती है |

शारीरिक चिकित्सा (फिज़िकल थेरपी) और व्यायाम

शारीरिक चिकित्सा (फिज़िकल थेरपी) पीठ दर्द के इलाज की आधारशिला है। एक फिज़िकल थेरपिस्ट दर्द को कम करने के लिए आपकी पीठ की मांसपेशियों और कोमल टिशूज़ पर हीट, अल्ट्रासाउंड, इलेक्ट्रिकल स्टिमुलेशन और मसल-रिलीज़ तकनीक जैसे कई प्रकार के इलाज अपलाई कर सकता है।

जैसे दर्द में सुधार होता है, थैरेपिस्ट आपको आपकी फ्लैक्सिबिलिटी बढ़ाने, आपकी पीठ और पेट की मांसपेशियों को मज़बूत करने, और आप के पॉस्चर में सुधार करने के लिए कुछ व्यायाम सिखा सकता है | इन तकनीकों का नियमित इस्तेमाल करने से दर्द को दोबारा होने से रोकने में मदद मिल सकती है |

साइनसाइटिस के इलाज में सर्जरी का इस्तेमाल

कुछ लोगों को पीठ दर्द के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है | अगर आपको नसों के दबाव की वजह से रेडिएटिंग लैगपेन या प्रोग्रेसिव मसल वीकनेस के साथ अनरिलेंटिंग पेन है, तो आपको सर्जरी से आराम मिल सकता है | वरना, सर्जरी आमतौर पर स्ट्रक्चरल प्रॉब्लम्स, जैसे कि रीढ़ की हड्डी का सिकुड़ना (स्पाइनल स्टिनोसिस) या एक हर्नियाटेड डिस्क,से संबंधित दर्द के लिए, आरक्षित (रिज़र्व) होती है, जिसमें किसी दूसरी थेरेपी से राहत नहीं मिली हो |

क्या पीठ दर्द से बचा जा सकता है?

नियमित रूप से कुछ साधारण बातों का ध्यान रखकर पीठ दर्द की समस्या होने से रोका जा सकता है:

  • कंप्यूटर पर काम करते समय ध्यान रखें, कि आपके पैर जमीन या एक स्कूल पर आरामदायक स्थिति में हों, आपकी पीठ सीधी हो और हाथ डेस्क पर टिके हो |
  • लिगमेंट को आराम देने के लिए हर ब्रेक लें और जितना हो सके चलें I
  • कोई चीज़ उठाने के लिए अपनी पीठ झुकाने से पहले अपने घुटनों को मोड़ेI
  • अगर आप घर से काम करते हैं, तो अपने डॉक्टर के साथ कंसल्ट करने के बाद विटामिन डी सप्लीमेंट्स लेना अच्छा रहेगा I
  • पीठ को मजबूत करने वाले योगा व्यायाम, अगर नियमित रूप से किए जाएं, तो इस समस्या से बचा जा सकता हैI

हम कोई भी इलाज शुरू करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह देते हैं |