Currently set to Index
Currently set to Follow

डायबिटीज़ भोजन मिथक और तथ्य

मिथक: डायबिटीज़ वाले लोगों को कभी मिठाइयाँ नहीं खानी चाहिए! 

सच्चाई: अच्छी खबर है दोस्तों! डायबिटीज़ वाले लोग कभी-कभी मिठाई खा सकते हैं। अमेरिकन डायबिटीज़ एसोसिएशन इस बात की वकालत करता है कि पकवानों और मिठाइयों का विशेष अवसरों और त्यौहारों पर लुफ़्त उठाना चाहिए और उपभोग करना चाहिए, परंतु तभी जब आपके ब्लड ग्लूकोज़ का स्तर कंट्रोल में है और आप नियमित रूप से प्रिस्क्राइब की गईं दवाइयाँ ले रहे हैं।

मिथक: डायबिटीज़ वाले लोग जूस नहीं पी सकते हैं।

सच्चाई: डायबिटीज़ वाले लोग ताजे जूसों का बहुत आनंद ले सकते हैं, लेकिन उन्हें बेशक डिब्बाबंद और पैक्ड जूसों से बचने की जरूरत है, इस वजह से कि उनमें अतिरिक्त रूप से शक्कर की सामग्री मिलाई गई होती है और उनके उच्च ग्लाइसीमिक मूल्य होते हैं।

मिथक: डायबिटीज़ वाले लोग फल नहीं खा सकते हैं।.

सच्चाई: डायबिटीज़ वाले लोगों को निश्चित रूप से फल खाने चाहिए, बस ग्लाइसीमिक इंडेक्स को ध्यान में रखते हुए। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ हेल्थ (राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान), यूएसए के अनुसार फल फाइबर और विटामिन सी "एस्कॉर्बिक एसिड" का बहुत अच्छा स्रोत होते हैं। सभी साइट्रस (खट्टे) फल विटामिन सी के समृद्ध स्रोत हैं जो आम बीमारियों से लड़ने के लिए हमारी इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा प्रणाली) को बढ़ाते हैं।

मिथक: आलुओं को एक बड़ा ना कहें।

सच्चाई: डायबिटीज़ वाले लोग भोजन में आलू (बेक्ड, ग्रील्ड या स्टीम्ड) ले सकते हैं। आलू का आदर्श रूप से सेवन बिना स्टार्चयुक्त सब्ज़ियों और सलाद के साथ किया जाना चाहिए।

मिथक: डायबिटीज़ आहार एक बहुत ही सख्त आहार है।

सच्चाई: डायबिटीज़ आहार सबसे स्वास्थ्यप्रद आहारों में से एक है और इसमें कोई बंधा हुआ नियत नियम नहीं है। बिना डायबिटीज़ वाले लोग भी डायबिटीज़ आहार का पालन कर सकते हैं। आप विभिन्न प्रकार के विकल्पों में से चुन सकते हैं जैसे कि मेडिटरेनीयन, फ्लेक्सिटेरियन, वीगन, ऑर्निश। अधिक जानने के लिए, Famhealth में आहार विकल्पों को देखिए।

मिथक: सभी कार्बोहाइड्रेट को हाँ और प्रोटीन को ना कहें।

सच्चाई: हाँ, कार्बोहाइड्रेट शुगर में बदल जाते हैं, लेकिन अत्यधिक प्रोटीन और कोई कार्ब्स न होने से थकान और कार्डियोवैस्कुलर (हृदय-संबंधी) रोग हो सकते हैं। ज़्यादा प्रोटीन होने से अंततः शरीर में फैट जमा होने लग जाते हैं जिससे कार्डियोवैस्कुलर रोग हो सकते हैं। एडीए सुझाव देता है कि कम कार्बोहाइड्रेट लेने की एक स्मार्ट चॉइस करना आपको ऊर्जावान बनाए रखेगा और आपको उदास और थका हुआ महसूस करने से बचाएगा।

मिथक: डायबिटीज़ आहार में अंडे नहीं होते हैं, क्योंकि वे शरीर में उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर में योगदान करते हैं।

सच्चाई: डायबिटीज़ वाले लोग अंडे खा सकते हैं, क्योंकि अंडे प्रोटीन और विटामिन डी का एक अच्छा स्रोत होते हैं। एडीए का कहना है, "वास्तव मायना यह रखता है कि में वह किस तरह पकाया जाता है"। योल्क (जर्दी) हटाकर उबले हुए अण्डों का सेवन किया जा सकता है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह कार्डियोवैस्कुलर (हृदय-संबंधी) जटिलताओं को और नहीं बढ़ाएं।

मिथक: यदि आप दवाएँ ले रहे हैं तो आप जो चाहें खा सकते हैं।

सच्चाई: यह डायबिटीज़ से जुड़े प्रमुख मिथकों में से एक है। दवाएँ केवल शुगर को ऊर्जा में कन्वर्ट करने में आपकी मदद करती हैं, लेकिन यदि आप अपने शरीर को आवश्यक से अधिक मात्रा में भोजन के साथ सप्लीमेंट (अनुपूरक) करते हैं, तो यह ब्लड ग्लूकोज़ के स्तर में वृद्धि करेगा और ख़राब डायबिटीज़ मैनेजमेंट का कारण बनेगा।

मधुमेह पर अधिक पढ़ने के लिए , नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

डायबिटीज़ के प्रकार और लक्षण