1. होम
  2. >
  3. Infocus Detail
  4. >
  5. हाइपोकौंड्रियासिस

हाइपोकौंड्रियासिस

हाइपोकौंड्रियासिस एक तरह का एंजाइटी डिसऑर्डर है |अगर कोई लगातार
अपने स्वास्थ्य के बारे में चिंतित रहता है, भले ही उसका डॉक्टर कहे कि सब
कुछ ठीक है, तो इसे हेल्थ एंजाइटी, या इलनेस एंजाइटी डिसऑर्डर, या
हाइपोकौंड्रियासिस के नाम से जाना जाता है |

हाइपोकौंड्रियासिस

Hypochondriac By Decora Chan Dby6g0m
लोगों द्वारा अपने स्वास्थ्य की चिंता करना स्वाभाविक है | लेकिन हाइपोकौंड्रियासिस अपने स्वास्थ्य को लेकर ज़रूरत से ज़्यादा चिंतित रहते हैं और उन्हें लगता है कि वह बहुत गंभीर रूप से बीमार हैं, या किसी गंभीर बीमारी के शिकार होने वाले हैं | ऐसे लोगों में या तो किसी तरह का लक्षण नहीं दिखता है या वह बहुत कम लक्षण महसूस करते हैं | यहां तक की कम से कम लक्षण भी उनके लिए चिंता का कारण बन जाते हैं |

Some people with hypochondria suffer from a medical condition which is usually not that serious, but they fear that they are suffering from a major disease. Other people with hypochondria are healthy, but have an overwhelming fear about their health in the future. For example, they might think: “What if I get cancer?”

हाइपोकौंड्रियासिस वाले लोग जीवन की लो क्वालिटी से प्रभावित होते हैं और यह कंडीशन उनकी हर दिन की गतिविधियों पर प्रभाव डालती है |

हाइपोकॉन्ड्रिया के कारण?

लोगों को हाइपोकॉन्ड्रिया होने का का कारण अभी तक पता नहीं चला है, लेकिन यह उन लोगों में ज़्यादा होता है जो:

  • जो तनाव में हो,बीमार हो या परिवार में किसी की मृत्यु हुई हो
  • जिसके बचपन में उपेक्षा (निग्लेकटिड) या दुर्व्यवहार (अब्यूज़) हुआ हो
  • जो किसी गंभीर शारीरिक बीमारी का अनुभव कर चुका हो
  • जो गंभीर मानसिक स्वास्थ्य संबंधी इशु जैसे एंगज़ाइटी, अवसाद (डिप्रेशन), एक कंपल्सिव डिसऑर्डर, या एक मनोरोगी बीमारी (साइकोटिक इलनेस) का अनुभव कर चुका हो
  • वह लोग जो जीवन के प्रति नकारात्मक दृष्टिकोण (नेगेटिव आउटलुक) रखते हैं

यहां कुछ ऐसी गतिविधियां बताई गई हैं जिनके कारण एक व्यक्ति में हाइपोकॉन्ड्रिया होने की संभावना बढ़ जाती है:

  • इंटरनेट पर बीमारियों के बारे में पढ़ते रहना
  • बीमारियों की जानकारी के लिए बहुत ज़्यादा टीवी देखना
  • यह जानने के लिए कि अगर वह व्यक्ति किसी ऐसे व्यक्ति को जानता हो जो किसी गंभीर मेडिकल कंडीशन से पीड़ित हो

हाइपोकॉन्ड्रिया के क्या लक्षण हैं?

 हाइपोकॉन्ड्रिया के कुछ सामान्य लक्षण है:

  • इससे प्रभावित व्यक्ति लगातार किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त होने के बारे में सोचता रहता है
  • Affected person keeps on seeing a doctor, in spite of doctor’s continuous reassurances
  • बार-बार मेडिकल टेस्ट कराता रहता है
  • हमेशा परिवार और दोस्तों के साथ स्वास्थ्य के बारे में बात करता रहता है
  • लक्षणों के बारे में जानकारी के लिए अपना काफी समय इंटरनेट पर बिताता है
  • रात को ठीक से सो नहीं पाता है
  • अपने स्वास्थ्य के बारे में चिंतित रहने के कारण परिवार, कार्यस्थल और समाज में संबंध अच्छे नहीं बना पाता है

हाइपोकॉन्ड्रिया का क्या इलाज है?

डॉक्टर शारीरिक समस्याओं को जानने की कोशिश करेगा जिसकी वजह से एक व्यक्ति हाइपोकॉन्ड्रिया से पीड़ित होता है:

  • वह इससे प्रभावित व्यक्ति को सलाह देता है और स्वयं की मदद करने की तकनीक सिखाता है
  • कुछ मरीजों पर कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी की जाती है
  • ऐसे व्यक्ति को काउंसलर या मनोचिकित्सक (साइकेट्रिस्ट) के पास रेफर करता है
  • एंगज़ाइटी को कम करने के लिए एंटीडिप्रेसेंट प्रिसक्राइब किए जाते हैं
  • व्यायाम, पौष्टिक आहार,और परिवार का साथ हाइपोकॉन्ड्रिया के लक्षणों को कम करने में मदद करता है

अगर हाइपोकॉन्ड्रिया का इलाज ना किया जाए, तो क्या समस्याएं (कॉम्प्लिकेशंस) हो सकती हैं?

हाइपोकॉन्ड्रियावाले व्यक्ति में नीचे बताई गई समस्याएं (कॉम्प्लिकेशंस) होना संभव है

  • Affected person usually suffers from an affected relationship as the near and dear ones are continuously frustrated with the patient’s talk
  • इससे प्रभावित व्यक्ति कार्यस्थल पर अच्छे से काम पूरा करने में असमर्थ रहता है
  • व्यक्ति अपने दैनिक जीवन की गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ रहता है; इसलिए छोटे-छोटे कार्य करने में भी मुश्किल होने लगती है
  • लगातार डॉक्टर के पास जाने और स्वास्थ्य जांच करवाने के कारण फाइनेंशियल क्राइसिस पैदा हो सकता है
  • अंत में, व्यक्ति सोमेटिक सिम्टम डिसऑर्डर, दूसरे एंगज़ाइटी डिसऑर्डर, अवसाद (डिप्रेशन) या एक पर्सनैलिटी डिसऑर्डर से पीड़ित हो जाता है

हाइपोकॉन्ड्रिया को कैसे रोका जा सकता है?

हाइपोकॉन्ड्रिया होने से रोकने के लिए यहां डॉक्टर द्वारा कुछ सुझाव दिए गए हैं

  • अगर कोई एंजायटी से पीड़ित है तो, इससे होने वाली समस्याओं (कॉम्प्लिकेशंस) को रोकने के लिए जल्द से जल्द प्रोफेशनल मदद लेने की सलाह दी जाती है |
  • अपने जीवन में तनाव को नियंत्रित करने की कोशिश करें,मदद मांगे, मेडिटेशन और व्यायाम आपको तनाव से राहत देने में मदद कर सकते हैं |
  • Seek doctor’s advice on a regular basis and stick to your treatment plan to prevent the relapse of hypochondria, in case you are diagnosed with the same

सोर्सेज़:

https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/illness-anxiety-disorder/symptoms-causes/syc-20373782

https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/9886-illness-anxiety-disorder-beyond-hypochondriasis

http://beyondocd.org/expert-perspectives/articles/hypochondriasis-what-is-it-and-how-do-you-treat-it

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC181122/

https://www.healthdirect.gov.au/hypochondria