1. होम
  2. >
  3. Infocus Detail
  4. >
  5. new-born
  6. >
  7. section
  8. >
  9. बच्चे के कान और नाखून की देखभाल
Baby Handle Tiny Father 51966

बच्चे के कान और नाखून की देखभाल

नाखूनों की देखभाल

Baby Handle Tiny Father 51966
  • The baby’s nails are softer then the adult nails
  • शिशुओं के नाखून तेज़ होते हैं और एक नवजात, जिसे अपने घिसटते हुए अंगों पर ज़रा-सा कंट्रोल होता है, वह आसानी से अपने चेहरे को खरोंच सकता है।
  •  लंबे नाखून आसानी से इन-ग्रोन (अंतर्वर्धित) भी हो जाते हैं, और बदले में, इन्फेक्टेड (संक्रमित) हो जाते हैं।
  •  छोटे नाखून इतनी तेज़ी से बढ़ते हैं कि आपको उन्हें सप्ताह में कई बार काटना पड़ सकता है।
  • पैर के नाखूनों को कम बार ट्रिमिंग की आवश्यकता होती है।

प्रक्रिया:

  • अपने हाथ धोएं।
  • नाखूनों को ट्रिम करने का सबसे अच्छा समय है जब वह सो रहा हो, और हाल ही में स्नान के बाद, जब वे अभी भी बहुत नरम होते हैं।
  • Press the finger pad away from the nail to avoid nicking the skin, keep a firm hold on your child’s hand as you clip, and cut straight across.
  • एक नेल फाइल का उपयोग करना अधिक आसान और सुरक्षित हो सकता है।
  • वेट वाइप (गीले पोंछे) से शिशु के हाथ को साफ़ करें और वस्तुओं को रिप्लेस करें।
  • 7 स्टेप्स का उपयोग करके अपने हाथ धोएं।

कान की देखभाल

Pexels Photo 374765

शिशु के कान कैसे साफ़ करें

  • You don’t need to clean the inside of your baby’s ears. Wash behind his ears where spit-up milk can run.
  • It’s OK to get water in your baby’s ears.
  • Don’t try to dry the inside of your baby’s ears with cotton swabs (Q-tips); you can damage the eardrum.
  • चूंकि पहली बात एक कॉटन स्वैब ही अकसर वैक्स बिल्ड-अप (मोम बढ़त) का कारण होता है, आपको शिशु के कान के कैनल को baby’s ear करने के लिए उसका उपयोग कभी नहीं करना चाहिए।
  • पानी को बाहर निकालने के लिए, बस कोमलतापूर्वक उसके सिर को साइड में टर्न करें और पानी को बाहर निकलने दें, फिर एक नरम तौलिया से कान के बाहर के हिस्से को सुखाएं।

कान छिदवाने की देखभाल कैसे करें?

हमें कान छिदवाने से पहले और बाद में सावधानी बरतने की जरूरत है।

छिदवाने से पहले हमें जिन मुख्य सावधानियों का पालन करना चाहिए, वे हैं: -

Avoiding blood thinners: – एस्पिरिन, अल्कोहल और अधिक मात्रा में कैफीन सभी ब्लड थिनर (खून को पतला करने वाली चीज़ें) हैं, इसलिए हमें इन चीज़ों से बचना चाहिए, जिस दिन आप पियर्स किए जाए। अगर इसे नजरंदाज कर दिया जाए, तो इससे ब्लीडिंग (रक्तस्राव) हो सकता है।

कान छिदवाने के बाद सावधानियाँ:-

There are numbers of precautions to be taken after ear piercing. Hygiene is important to avoid the infection. Other precautions are: –

  • इन्फेक्शन (संक्रमण) की संभावना से बचने के लिए अपने हाथों को एंटी-बैक्टीरियल (जीवाणुरोधी) साबुन से धोएं।
  • पियर्स किए हुए क्षेत्र को बार-बार छूने से बचें।
  • स्टार्टर ईयरिंग (झुमके) - उन्हें समय से पहले नहीं हटाएं; पियर्सिंग (छेदन) बंद हो सकते हैं या अनुचित तरीक़े से हील हो सकते हैं।
  • पियर्स किए जाने के आठ सप्ताह बाद तक, झुमकों को पहली बार न बदलें।
  • साबुन का उपयोग न करें क्योंकि यह कान के छेदो को हील करने के लिए हानिकारक होता है। यह आपकी त्वचा को ड्राई (शुष्क) कर सकता है और एक पियर्सिंग इन्फेक्शन (छेदन संक्रमण) विकसित करने के लिए उसे अतिसंवेदनशील बना सकता है।
  • उन चीज़ों से सावधान रहें जो आपके झुमके को चीर सकतीं हैं। टोपी, स्कार्फ और अन्य सामान जो आपके झुमके को पकड़ सकते हैं, उन्हें ध्यान से पहना जाना चाहिए।
  • अपने कानों पर शैम्पू, कंडीशनर, और अन्य हेयर प्रोडक्ट के लगने से बचें, क्योंकि इन प्रोडक्ट्स की सामग्री इन्फेक्शन (संक्रमण) का कारण बन सकतीं हैं।
  • तकिये के बल कान रखकर सोने से आपके पियर्सिंग में तकलीफ हो सकती है।
  • उन्हें दिन में तीन बार साफ़ करें
  • पियर्सिंग के दोनों, सामने वाले और पीछे वाले हिस्सों को साफ़ करें, यह सुनिश्चित करते हुए कि पूरा क्षेत्र कवर हो।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि एंटीसेप्टिक पियर्सिंग के अंदर जा रही है, दो या तीन बार कोमलतापूर्वक झुमकों को घुमाएं।

यदि कोई मवाद (पस) निकलता है, अत्यधिक खुजली, लालिमा, और अत्यधिक दर्द होता है तो यह एक इन्फेक्शन (संक्रमण) का संकेत है, और किसी डॉक्टर को दिखाएं। या तो कान के झुमके को तुरंत स्वयं ही हटा दें, या अगर यह बहुत दर्दनाक महसूस हो रहा है, तो इसे डॉक्टर के द्वारा हटवाएं।

बेबी केयर पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें,

New Born

सामग्री सौजन्य: पोर्टिया