1. होम
  2. >
  3. Infocus Detail
  4. >
  5. गर्भावस्था
  6. >
  7. Section
  8. >
  9. सीज़ेरियन सेक्शन
Pexels Photo 265996

सीज़ेरियन सेक्शन

Pexels Photo 265996

यदि यह एक प्लान किया हुआ आपरेशन है, तो आप डॉक्टर से एक एपिड्यूरल ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) मांग सकतीं हैं, ताकि आप डिलीवरी (प्रसूति) की अवधि के दौरान जागृत रहें और जन्म के तुरंत बाद शिशु को हाथ में पकड़ सकें। हालाँकि, एक सामान्य ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) में आप बहुत ही घबड़ाई हुई और भटकी हुई महसूस करती हुई जागतीं हैं।

यदि यह एक इमरजेंसी (आपातकालीन) आपरेशन है, तो डॉक्टर को ही सामान्य या एपिड्यूरल ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) के बारे में निर्णय लेने दें।

सीज़ेरियन सेक्शन के कुछ कारण:

आपको वजाइनल बर्थ (योनिक जन्म) के बजाय एक प्लान्ड (नियोजित) या इमरजेंसी (आपातकालीन) सीज़ेरियन क्यों हो सकता है, इसके कारण निम्नलिखित रूप से दिए गए हैं:

  • एक सीज़ेरियन सेक्शन का इतिहास हो।
  • शिशु बॉटम-डाउन (नितंब/बटक्स नीचे की तरफ़ की) अवस्था में हो, या उलटी मुद्रा में हो।
  • शिशु तिरछी (ट्रांसवर्स/अनुप्रस्थ) मुद्रा में हो, या अपनी मुद्रा को बदलता रहता है (अस्थिर रहना)।
  • आपके पास नीचे की ओर स्थित प्लेसेंटा (बीजांडासन) हो सकता है (प्लेसेंटा प्रीविया)।
  • हृदय रोग या डायबिटीज़ जैसी मेडिकल कंडीशन (चिकित्सकीय अवस्था)।
  • आपने अतीत में, या तो लेबर (प्रसव) के पहले या दौरान, एक बच्चा खोया है।
  • You’re expecting twins or more.
  • आपका शिशु उतना नहीं बढ़ रहा है जितना कि वह आपके गर्भ (यूटरस/गर्भाशय) में बढ़ना चाहिए।
  • आपको गंभीर प्री-इक्लैम्प्सीआ या इक्लैम्प्सीआ है, जिससे जन्म में देरी करना ख़तरनाक साबित हो सकता है।

क्या किया जाता है:

  • आपके प्यूबिक हेयर (जघन केश) शेव कर दिए जाते हैं।
  • आपके हाथ में एक ड्रिप लगाई जाती है।
  • आपके ब्लैडर (मूत्राशय) में एक ट्यूब डाली जाती है।
  • आपको ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) दिया जाएगा।
  • एपिड्यूरल ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) के मामले में आपके और सर्जन के बीच एक स्क्रीन लगाई जाती है।
  • आम तौर पर प्यूबिक हेयरलाइन (जघन केश-रेखा) के ठीक ऊपर एक आड़ा कट किया जाता है और ठीक होने पर यह लगभग अदृश्य होता है।
  • सर्जन ऐम्निऑटिक फ्लूइड (द्रव) को बहा देता है।
  • कभी-कभी फोरसेप्स (संदंश) का उपयोग करके शिशु को बाहर निकाला जाता है।
  • प्लेसेंटा (बीजांडासन) की डिलीवरी होते ही आप शिशु को पकड़ पातीं हैं।
  • सर्जरी की शुरुआत से जन्म तक लगभग 5 मिनट लगते हैं।
  • आपके टाँके करने के लिए और 20 मिनट लग जाते हैं।
  • आप या आपका साथी शिशु को पकड़ सकते हैं जब तक सर्जन आपको टाँके लगाता है।

आपरेशन के बाद:

  • आपको जन्म के तुरंत बाद चलने के लिए कहा जाएगा।
  • चीरा शुरुआती कुछ दिनों में दर्दनाक हो सकता है इसलिए पेन रिलीफ (दर्द से राहत की दवा) के लिए कहें।
  • Don’t be scared that your moving around might open up the cut.
  • लंबी खड़ी हो और अपने हाथों को घाव के ऊपर रख दें।
  • आपरेशन के दो दिन बाद, सौम्य व्यायाम शुरू कर दें। अपने डॉक्टर से आपका मार्गदर्शन करने के लिए कहें।
  • ड्रेसिंग हटाने के बाद आप स्नान कर सकतीं हैं।
  • यदि टाँकें सॉल्युबल (घुलनशील) हैं, तो उन्हें निकालने की आवश्यकता नहीं हैं, अन्यथा उन्हें जन्म के लगभग पाँच दिन बाद निकाल दिया जाएगा।
  • लगभग एक सप्ताह के बाद आप बहुत बेहतर महसूस करने लगेंगी।
  • Don’t strain yourself for at least six weeks
  • स्कार (निशान) आमतौर पर तीन से छह महीने में मिट जाता है।

सीज़ेरियन सेक्शन के बाद स्तनपान कैसे करें

अपने बाजू में कुछ तकिए रखें और उनके ऊपर शिशु को सपोर्ट करें। इस तरह शिशु आपके घाव पर नहीं लेट रहा होगा और आप उसे आराम से स्तनपान करा सकतीं हैं।

माता के लिए जोखिम और जटिलताएँ

अमेरिकन प्रेगनेंसी एसोसिएशन (अमेरिकी प्रेगनेंसी संघ) के अनुसार सीज़ेरियन से जुड़े कुछ जोखिम फैक्टर निम्न हैं:

  • इन्फेक्शन (संक्रमण): यह किसी भी तरह के इन्फेक्शन (संक्रमण) की वजह से चीरे के कारण हो सकता है।
  •  हेमरिज या अत्यधिक ब्लड लॉस: वजाइनल डिलीवरी (योनिक प्रसूति) के मुकाबले सीज़ेरियन डिलीवरी में अधिक खून की हानि होती है। इससे एनीमिया हो सकता है या ब्लड ट्रांसफ्यूजन (रक्त आधान) की आवश्यकता पड़ सकती है (प्रति 100 में 1 से 6 महिलाओं को ब्लड ट्रांसफ्यूजन की आवश्यकता पड़ती है)।
  • ऑर्गन्स में चोट लगना: बॉवल (आंत्र) या ब्लैडर (मूत्राशय) जैसे अंगों पर संभावित चोट लगना।
  • ऐड्हीशन (आसंजन): पेल्विक (श्रोणीय) क्षेत्र के अंदर स्कार टिश्यू (निशान ऊतक) निर्मित हो सकता है जो रुकावट और दर्द का कारण बन सकता है। ऐड्हीशन भविष्य की प्रेगनेंसी की जटिलताओं को भी जन्म दे सकते हैं जैसे कि प्लेसेंटा प्रीविया या प्लेसेंटल अबरप्शन।
  • अस्पताल में रहने की बढ़ी हुई अवधि: किसी सीज़ेरियन के बाद, अस्पताल में रहने की सामान्य अवधि जन्म के बाद 3-5 दिनों की होती है, अगर कोई जटिलताएँ न हों।
  • ठीक होने का बढ़ा हुआ समय: सीज़ेरियन के बाद ठीक होने के लिए आवश्यक समय की मात्रा सप्ताहों से लेकर महीनों तक हो सकती है। ठीक होने की बढ़ी हुई अवधि आपके शिशु के साथ बॉन्डिंग करने के (अर्थात् एक संबंध बनाने के) समय पर प्रभाव डाल सकती है (सर्जरी के 6 महीने या उससे अधिक के बाद 14 में से 1 जन चीरे से होनेवाले दर्द को बयान करतीं हैं)।4).
  • दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया: सीज़ेरियन के दौरान दिए गए ऐनिस्थीज़िया (संज्ञाहरण) के प्रति एक नकारात्मक प्रतिक्रिया हो सकती है या प्रक्रिया के बाद दी जाने वाली दर्द की दवा के प्रति नकारात्मक प्रतिक्रिया हो सकती है।
  • अतिरिक्त सर्जरी के जोखिम: में संभावित हिस्टेरेक्टॉमी, ब्लैडर (मूत्राशय) की मरम्मत या एक और सीज़ेरियन शामिल है।
  • मैटरनल मॉर्टेलिटी: किसी सीज़ेरियन के लिए मैटरनल मॉर्टेलिटी रेट (मातृ मृत्यु दर) एक वजाइनल बर्थ (योनिक जन्म) की तुलना में अधिक होती है।
  • भावनात्मक प्रतिक्रियाएँ: कुछ महिलाएँ जिनका सीज़ेरियन हुआ है, वे जन्म के अपने अनुभव के बारे में नकारात्मक महसूस करना बयान करतीं हैं और उन्हें अपने शिशु के साथ शुरुआती बॉन्डिंग करने में (अर्थात् एक संबंध बनाने में) परेशानी हो सकती है।5.

शिशु के लिए जोखिम और जटिलताएँ

  • प्रीमेच्यौर (अपरिपक्व) जन्म: यदि जेस्टेशनल एज (गर्भावधि उम्र) सही कैलकुलेट नहीं की हो, तो सीज़ेरियन द्वारा डिलीवर किया गया शिशु बहुत जल्दी डिलीवर किया जा सकता है और उसका जन्म वज़न कम हो सकता है।.
  • श्वास संबंधी समस्याएँ: जब सीज़ेरियन द्वारा डिलीवरी कराई जाती है, तो शिशु को सांस लेने और श्वसन संबंधी समस्याएँ होने की संभावना होती है। कुछ अध्ययन दर्शाते हैं कि वजाइनल डिलीवरी (योनिक प्रसूति) की तुलना में, किसी सीज़ेरियन के बाद सांस लेने और तुरंत देखभाल हेतु सहायता की अधिक आवश्यकता पड़ती है।.
  • फीटल इंजरी (भ्रूण संबंधी चोट): शायद ही कभी, चीरा लगाने के दौरान बच्चे को ज़रा सा चीरा पड़ सकता है या उसे काट दिया जा सकता है (औसतन, प्रति 100 में 1 या 2 बच्चे सर्जरी के दौरान काट दिए जाते हैं)..

सीज़ेरियन सेक्शन इन दिनों एक सामान्य प्रक्रिया है; अपने डॉक्टर से पूछें कि यदि आपको उसके बारे में कोई भी आशंका है। उपरोक्त कुछ जोखिम सभी मामलों में नहीं होते हैं और आसानी से उचित मेडिकल इंटरवेंशन (चिकित्सकीय हस्तक्षेप) से निपटे जा सकते हैं।

गर्भावस्था पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

गर्भावस्था