पीसीओएस

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस)

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) एक ऐसी मेडिकल कंडीशन
है जिससे प्रजनन आयु में आने वाली हर 10 में से एक महिला प्रभावित है |ऐसी महिलाओं कहार मोनल लेवल असंतुलित होता है
और उन्हें मेटाबॉलिज्म की समस्या होती है |
शरीर में होने वाले डिस्टर्बेंस स्वास्थ्य को और यहां तक कि सामान्य अपीयरेंस को भी बदल देते हैं |
पीसीओएस की वजह से महिलाओं में बांझपन हो सकता है हालांकि,
सही इलाज की मदद से इसे ठीक किया जा सकता है |

पीसीओएस

PCOS by Famhealth

पीसीओएस

रिसर्च के अनुसार, प्रजनन आयु की 5 से 10% महिलाएं पीसीओएस से पीड़ित हैं। महिलाएं इस समस्या को आमतौर पर 20 या 30 वर्ष की आयु में तब पहचानती हैं जब उन्हें बच्चे होने में मुश्किल होती है | जेनेटिक प्रीडिसपोज़ीशन और मोटापा पीसीओडी / पीसीओएस में योगदान देता है |

पीसीओएस के क्या कारण हैं?

पीसीओ होने का सही कारण अभी तक पता नहीं चला है और यह अभी भी वैज्ञानिकों के बीच एक विवादास्पद मुद्दा बना हुआ है | हालांकि, जेनेटिक प्रीडिसपोज़ीशन के साथ कुछ एनवायरमेंटल फैक्टर्स पीसीओएस होने में योगदान देते हैं |

  • एंड्रोजन का ज़्यादा प्रोड्यूस होना: एण्ड्रोजन को "पुरुष हार्मोन" के रूप में भी जाना जाता है। एण्ड्रोजन की एक छोटी मात्रा में महिलाओं द्वारा प्रोड्यूस किया जाता है। एण्ड्रोजन कुछ पुरुष विशेषताओं जैसे मेल-पैटर्न बाल्डनेस के लिए जिम्मेदार हैं। पीसीओएस से पीड़ित महिला हाई लेवल एंड्रोजन प्रोड्यूस करती हैं और यह पाया गया है कि महिलाओं में हाई लेवल एण्ड्रोजन प्रत्येक मासिक धर्म के दौरान ओवरी को एक अंडा (ओव्यूलेशन) रिलीज़ करने से रोक सकता है, और अतिरिक्त हेयर ग्रोथ और मुँहासे पैदा कर सकता है |
  • इन्सुलिन रज़िस्टेंट और हाई इन्सुलिन: इंसुलिन भोजन को नियंत्रित करता है और एनर्जी को बदलता है। इंसुलिन रज़िस्टेंट एक ऐसी कंडीशन है जिसमें शरीर के सेल इंसुलिन के लिए सामान्य रूप से प्रतिक्रिया नहीं देते हैं | इससे इंसुलिन का लेवल बढ़ जाता है | यह पता चला है कि उन महिलाओं में इंसुलिन रज़िस्टेंट होता है, जिन्हें मोटापा हो या ज़रूरत से ज्यादा वज़न हो, अन्हेल्दी खाने की आदतें, पर्याप्त फिजिकल एक्टिविटी, और डाईबिटीज़ की फैमिली हिस्ट्री हो | पीसीओडी वाली महिलाओं में एक समय की अवधि के बाद डाईबिटीज़ विकसित हो जाती है |

पीसीओएस के संकेत और लक्षण

  • नियमित और डिस्टर्ब मेंस्ट्रूअल साइकिल - पीसीओएस वाली महिलाओं को या तो कम मात्रा में पीरियड्स होते हैं या अक्सर वह हर महीने होने वाले पीरियड्स को मिस कर देती हैं, उनके पीरियड्स हर 21 दिन के बाद या उससे पहले आ सकते हैं | पीसीओएस वाली कुछ महिलाओं को मेंस्ट्रूअल पीरियड होना बंद हो जाते हैं |
  • शरीर पर अधिक बाल होना - महिलाओं को चेहरे, चिन, या ऐसी जगह पर बाल हो जाते हैं जहाँ अक्सर पुरुषों को होते हैं | इसे “हर्स्युटिज्म” के नाम से जाना जाता है | हर्स्युटिज्म पीसीओएस के साथ 70% महिलाओं को प्रभावित करता है |
  • मुंहासे (ऐकने) चेहरे, छाती या पीठ के ऊपरी हिस्से पर पाए जाते हैं |
  • पतले बाल वाली महिलाओं के स्कैल्प पर कम बाल होते हैं |
  • मोटापा ऐसी महिलाएं मोटापे या वजन बढ़ने की समस्याओं से जूझती रहती हैं |
  • शरीर के कुछ हिस्सों की त्वचा का रंग गहरा होना जैसे गले की क्रीज़, ग्रोइन में, और स्तनों के नीचे |
  • त्वचा का लटकना (स्किन फ्लैप) जो बगल या गर्दन के नीचे की त्वचा का अतिरिक्त हिस्सा है |

पीसीओएस गर्भावस्था को कैसे प्रभावित कर सकता है और इसे रोकने के क्या तरीके हैं?

पीसीओएस मां और बच्चे दोनों के लिए ही मुश्किल पैदा कर सकता है | पीसीओएस से प्रभावित महिलाओं द्वारा सफर करने वाली को चुनौतियों को नीचे बताया गया है |

  • गर्भावस्था के दौरान होने वाली डायबिटीजI
  • गर्भावस्था के दौरान हाई ब्लड प्रेशरI
  • सिज़ेरियन सेक्शन (सी- सेक्शन)I

आपके बच्चे को ज्यादा वजन होने (मेक्रोसोमिया) और निओनेटल इंटेंसिव केयर में ज्यादा समय तक रहने का खतरा ज्यादा होता है |

गर्भावस्था में ऐसी समस्याओं को कम करने के उपाय:

  • ऊपर बताई गयी सभी समस्याओं को रोकने के लिए वजन को नियंत्रित करना एक महत्वपूर्ण तरीका हैI
  • अपने ब्लड शुगर के लेवल को नियंत्रित करने का प्रयास करेंI
  • डॉक्टर की सलाह के अनुसार फ़ोलिक एसिड लें I

पीसीओएस का इलाज कैसे किया जा सकता है?

पीसीओएस के लिए कोई इलाज नहीं है, फिर भी, इसके लक्षणों को मैनेज किया जा सकता है। हालांकि, ऐसी महिलाओं में डायबिटीज और हृदय रोग जैसी कंडीशंस को रेगुलेट और मोनिटर करना महत्वपूर्ण है। जैसे ही किसी को पीसीओडी का पता चलता है, डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है |

सोर्सेज़:

https://www.womenshealth.gov/a-z-topics/polycystic-ovary-syndrome

https://medlineplus.gov/polycysticovarysyndrome.html

https://www.girlshealth.gov/body/…/pcos.html

https://www.cdc.gov/diabetes/library/…/pcos.html

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmedhealth/PMHT0024506/

$("#ig").attr('disabled','disabled');
$("#ig1").attr('disabled','disabled');