1. होम
  2. >
  3. Infocus Detail
  4. >
  5. new-born
  6. >
  7. section
  8. >
  9. बच्चे की देखभाल के लिये आवश्यक टिप्स
Pexels Photo 415824

बच्चे की देखभाल के लिये आवश्यक टिप्स

बेबी मसाज (शिशु की मालिश) 

Pexels Photo 415824

त्वचा को चिकना करने के लिए शिशु को बॉडी मसाज (शरीर की मालिश) दिया जाता है, जिससे शिशु को ताज़गी महसूस होती है, वह रिलैक्स होता है और ब्लड सर्कुलेशन (रक्त परिसंचरण) में सुधार होता है।

आप स्नान के बाद या स्नान से पहले बॉडी मसाज कर सकतीं हैं। माँ की अनुमति के अनुसार, आप तेल या बेबी बॉडी लोशन का उपयोग कर सकतीं हैं।

आवश्यक चीज़ें:

  • रबर या प्लास्टिक की चादर/शीट।
  • बेबी बॉडी लोशन या तेल।
  • लपेटने वाला कपड़ा

प्रक्रिया:

  • अपने हाथ धो लो
  • आवश्यक चीज़ों को इकट्ठा करें।
  • ए/सी या पंखा बंद करें।
  • बिस्तर या फर्श पर रबर शीट या प्लास्टिक शीट बिछाएं।
  • Take the oil in bowl, warm the oil if required and check the warmth before applying on Baby
  • ड्रेस और नैपकिन को निकालकर, शिशु को तैयार करें और शिशु को प्लास्टिक शीट पर रखें।

फॉलो किए जानेवाले स्टेप्स:

  • पाँव,
  • पिंडलियाँ (काफ),
  • जांघें,
  • छाती,
  • पेट,
  • दोनों हाथ,
  • चेहरा,
  • पीठ।

पाँव: तेल या लोशन लें, पैर के तलवे पर लगाएं और अपनी अंगूठे के ज़रिए एड़ी से लेकर पैर की उंगलियों की ओर, कम से कम 5 बार मालिश करें, फिर 5 बार पैर की उंगलियों को फैलाएं।

इसके बाद, अपने अंगूठों का उपयोग करके, टखने के दोनों जोड़ों की पाँच बार मालिश करें।

पिंडलियाँ (काफ)There are two types of calves’ massage.

  • स्वीडिश मिल्किंग

स्वीडिश मिल्किंग: पहले पाँवों पर तेल या लोशन लगाएं, फिर टखने के जोड़ से लेकर घुटने के जोड़ तक 5 बार (दोनों तरफ) मालिश शुरू करें; फिर, घुटने के जोड़ से ग्रॉइन एरिया (उरुसंधि क्षेत्र) तक 5 बार (दोनों तरफ)।

  • भारतीय मिल्किंग– (Prefer to give type 1, If the mother ask for type 2 then u can also give type 2 massage.)

भारतीय मिल्किंग: मसाज ग्रॉइन एरिया (उरुसंधि क्षेत्र) से शुरू होता हुआ पैरों की ओर जाता है। (यह केवल वैकल्पिक है यदि माँ पूछे तो।)

छाती:तेल या लोशन लें, छाती के ऊपर से लेकर कंधे तक लगाएँ और नीचे से ऊपर और भीतर से बाहर की साइड 5 बार मालिश करें (जैसे छाती को चौड़ा करना हो)

इसके बाद, अपने हाथों को बाएं से दाएं और दाएं से बाएं तरफ क्रॉस तरीक़े से घुमाएं।

एब्डोमेन (उदर)एब्डोमेन के ऊपर तेल या लोशन लगाएं और ऊपर से नीचे की ओर 5 बार मालिश करें, फिर घुमावदार गति से। (हमेशा एब्डोमिनल मसाज [पेट की मालिश] को अम्बिलिकल कॉर्ड [गर्भ नाल] को छूए बिना क्लॉकवाइज़ [दक्षिणावर्त] तरीक़े से करना चाहिए)।

हाथ: स्वीडिश मिल्किंग भारतीय मिल्किंग की तुलना में दोनों हाथों और पैरों के लिए बेहतर है। यदि आप हाथों और पैरों के लिए भारतीय मिल्किंग करते हैं, तो स्वीडिश मालिश से समाप्त करें।

चेहरा: अंगूठे का उपयोग करके घुमावदार गति से कोमलतापूर्वक गाल की मालिश करें, फिर माथे की। (चेहरे की मालिश अनिवार्य नहीं है)

पीठ: तेल लगाकर ऊपर से नीचे की ओर पाँच बार मालिश करें, फिर एक तरफ से दूसरी तरफ पाँच बार मालिश करें।

बटक्स (नितंब): नितंबों की नीचे से ऊपर तक 5 बार मालिश करें।

मालिश पूरी करने के बाद, शिशु को धीरे-धीरे टर्न करें, शिशु को चादर/शीट पर रखें, और शिशु को लपेटने वाले कपड़े में लपेटें।

चीज़ों को उचित स्थान पर रिप्लेस करें।

Do’s:

  1. हमेशा हाथ और पैर की मालिश हृदय की ओर की जानी चाहिए।
  2. हमेशा एब्डोमिनल मसाज (पेट की मालिश) केवल क्लॉकवाइज़ (दक्षिणावर्त) की जानी चाहिए।

Don’ts:

  1. 3 महीने से कम उम्र के शिशुओं को टर्न न करें,
  2. Don’t do head massage,
  3. सिर और चेहरे पर तेल न लगाएं (गालों और माथे को छोड़कर)

बेबी बाथ (शिशु की स्नान)

Toddler 454641 640

एक नवजात को हर रोज़ स्नान कराने की आवश्यकता नहीं है। वास्तव में, शिशु को सप्ताह में कई बार से अधिक नहलाना उसकी त्वचा को सुखा सकता है।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कब स्नान कराते हैं और यह सुनिश्चित करें कि खिलाने-पिलाने के तुरंत बाद न कराएं।

आवश्यक चीज़ें:

  • बाथ टब
  • 2 कॉटन बॉल (कपास की गेंदों) सहित एक कटोरा - आँखों को साफ़ करने के लिए
  • बॉडी वॉश (साबुन/शैंपू)
  • बड़ा तौलिया
  • लपेटने वाला कपड़ा
  • कॉर्ड केयर (नाल देखभाल) के लिए अल्कोहल स्वैब
  • बेबी ड्रेस, नैपकिन या डायपर
  • कचरे का डिब्बा
  • नाखून काटने के लिए नेल कटर वाली कैंची

प्रक्रिया:

  • अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  •  आवश्यक चीज़ों को इकट्ठा करें।
  • एक टब में 2 से 3 इंच तक गर्म पानी और ठंडा पानी डालें और कोहनी से पानी का तापमान जाँचें। 
  • Remove the baby’s cloths and clean the diaper area top to bottom by using wet wipes. (Check if baby has passed urine or motion)

फॉलो किए जानेवाले स्टेप्स::

  • दोनों आँखों को कॉटन बॉल के ज़रिए इनर कैंटस से बाहरी कैंटस तक साफ़ पानी से साफ़ करें।
  • इसके बाद, गर्म पानी से चेहरा साफ़ करें। याद रखें, चेहरे पर साबुन न लगाएं और आँखों को न छूए।
  • बालों को पानी से गीला करें और शैम्पू लगाएं, फिर बालों को कोमलतापूर्वक साफ़ करें।
  • ताज़ा गुनगुना पानी सिर पर डालें।
  • इसे बाद, शरीर के सामने वाले हिस्से को गीला करें और शैम्पू लगाएं, फिर कोमलतापूर्वक साफ़ करें; हाथ, गर्दन, ग्रॉइन (उरुसंधि), अंगुलियों के बीच के भाग और फोल्डिंग हिस्सों जैसी जगहों पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है।  (याद रखें, अम्बिलिकल कॉर्ड [गर्भ नाल] को न छूएं)।
  • फिर, शिशु को धीरे-धीरे टर्न करें और शिशु की पीठ को नहलाएं।
  • पूरे शरीर पर