1. होम
  2. >
  3. Infocus Detail
  4. >
  5. कैंसर
  6. >
  7. Section
  8. >
  9. कीमोथेरेपी
Infusion 1296236 640

Chemotherapy – Side effects & Cost

Infusion 1296236 640

कीमोथेरेपी कैंसर के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला उपचार है और कैंसर के उपचार के लिए इस्तेमाल की जाने वाली औषधियों को निर्देशित करता है जिसके उद्देश्य हैं इलाज, कंट्रोल और उपशमन।

Most chemotherapy (chemo) drugs are strong medicines commonly given at regular intervals called cycles – which is a dose of one or more drugs followed by several days or weeks without treatment. This gives normal cells time to recover from drug side effects.

अधिकतम लाभ के लिए, व्यक्ति को कीमो का पूरा कोर्स, पूरी खुराक प्राप्त करनी चाहिए और साइकिल को शेड्यूल पर रखना चाहिए। ज़्यादातर मामलों में, विशेष कैंसरों के उपचार के लिए औषधियों के सबसे प्रभावी खुराक और शेड्यूल क्लिनिकल ट्रायल्स (नैदानिक परीक्षणों) में टेस्ट करके खोजें गए हैं।

दुष्प्रभाव

भले कीमो औषधियाँ तेज़ी से बढ़ने वाले सेल्स को मारतीं हैं, वे दुष्प्रभाव के रूप में स्वस्थ सेल्स को भी नुकसान पहुँचाते हैं। कुछ दुष्प्रभावों से उबरने के लिए लिया गया समय एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग होता है और यह आपके संपूर्ण स्वास्थ्य और आपको दी जाने वाली औषधियों पर निर्भर करता है। कई दुष्प्रभाव उपचार समाप्त होने के बाद काफ़ी जल्दी चले जाते हैं, लेकिन कुछ को पूरी तरह से दूर होने के लिए महीने लग सकते हैं।

कीमोथेरेपी के कुछ अधिक सामान्य दुष्प्रभाव हैं थकान, बालों का झड़ना, एनीमिया (रक्ताल्पता), मतली और उलटी, कब्ज, दस्त, घाव और निगलने पर दर्द होना। बालों का झड़ना कीमो उपचार का एक सामान्य दुष्प्रभाव है, लेकिन यह अस्थायी है क्योंकि अंतिम उपचार के बाद कुछ सप्ताहों में नए बालों आने शुरू हो जाते हैं।

वज़न कम होना और ऊर्जा की कमी समान रूप से आम है जिससे स्वस्थ खाद्य पदार्थों को खाना जारी रखना आवश्यक हो जाता है। कीमोथेरेपी का एक और आम दुष्प्रभाव डाइजेशन (पाचन) को प्रभावित करता है और आपके मुंह में मैटेलिक (धातु जैसा) स्वाद आ सकता है या आपकी जीभ पर कोई पीली या सफेद परत आ सकती है। मरीज़ को वायरस, बैक्टीरिया और अन्य कीटाणुओं के संपर्क में आने से बचना चाहिए क्योंकि कीमो के दौरान इम्यून सिस्टम कमज़ोर हो जाता है।

Chemotherapy drugs may cause memory problems and make it difficult to concentrate or think clearly. This symptom sometimes is called “chemo fog,” or “chemo brain.” Chemotherapy drugs may alter hormones and result in mood swings. Sexual function and fertility may also be impacted in some cases.

कैंसर के साथ जीना और कीमोथेरेपी को संभालना भावनात्मक रूप से नुकसान पहुँचा सकता है। मरीज़ों को यह ज़बरदस्त लग सकता है और वे उदास भी हो सकते हैं जैसे वे काम, परिवार, और वित्तीय जिम्मेदारियों को टटोलते हैं या दर्द और परेशानी से निपटते हैं।

मालिश और ध्यान जैसी कॉम्प्लीमेंटरी थेरेपियाँ (पूरक चिकित्साएँ) आराम और राहत के लिए एक सहायक उपाय हो सकतीं हैं। कैंसर सहायता समूह, जहाँ आप कैंसर के उपचार से गुज़रने वाले अन्य लोगों के साथ बातचीत कर सकते हैं, सहायक होते हैं, लेकिन यदि अवसाद की भावनाएँ बनीं रहें, तो पेशेवर काउंसिलिंग की आवश्यकता पड़ सकती है।

उपचार लागत

“It is a myth that cancer is just a health issue," says the World Cancer Day website run by the Union for International Cancer Control. & Cancer negatively impacts families&39; ability to earn an income, with high treatment costs pushing them further into poverty” 

The Indian Government’s National Cancer Control Programme estimates that there are between 2 and 2.5 million cancer patients in the country at any given point of time. As per a BCG study in 2010, as opposed to the 200 cancer centers in existence, India needed at least 840. It is estimated that India has only 2000 oncologists while it needs thrice as many. It is obvious that a shortage of doctors will take its toll on the number of hospitals offering cancer care. Setting up a fully-fledged cancer hospital is capital-intensive – a 100-bed hospital in a city could reportedly cost as much as Rs 50 crore. And human resources, from doctors to nurses to technicians are also a continuing challenge. Cancer treatment runs into lakhs of rupees especially when the disease is detected in advanced stages requiring surgery or extensive treatment. By one estimate, over 45per cent of families with one cancer patient face catastrophic expenditures and 25 percent are pushed below the poverty line (BPL). Medical insurance is the only way one can cope with mounting expenses and since India has not seen too much investment in health, it is a long road ahead.

कैंसर पर अधिक पढ़ने के लिए, नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें, 

कैंसर क्या है?

One thought on “Chemotherapy”

  1. Om Prakash Parashar says:

    Very knowledgeable information.i want 2nd opinion,whether AML CAN BE CURED
    PERMANENTLY AT THE AGE OF 72 YEARS.